Top
Home > Archived > कर्ज वसूली नहीं हुई तो हजारों माल्या पैदा होंगे : सिंह

कर्ज वसूली नहीं हुई तो हजारों माल्या पैदा होंगे : सिंह

कर्ज वसूली नहीं हुई तो हजारों माल्या पैदा होंगे : सिंह

बहुत बड़े घाटे में चल रहे हैं देश के कई बैंक


झांसी। बैंकों के कर्ज की वसूली नहीं हुई तो एक दिन देश में कई विजय माल्या सामने आएंगे। मात्र इसी कारण देश की कई बैंक आज घाटे में चल रही हैं। घाटे में चल रही बैंकों के विलयीकरण का जो प्रयास किया जा रहा है, उससे लाभ में चलने वाले बैंक प्रभावित हो सकते हैं। इसका बैंक कर्मचारी भारी विरोध कर रहे हैं। यह बात स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टाफ एसोसिएशन के महामंत्री के. के. सिंह ने पत्रकारों के समक्ष व्यक्त की।

उन्होंने एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि अभी तक बैंक कर्मचारियों की हड़ताल में कर्मचारियों के शामिल होने से वेतन में से पैसा काट लिया जाता है, इसलिए आगे की रणनीति बनाने के लिए 14 सितम्बर को मुंबई में आयोजित की जाएगी, जिसमें आंदोलन की रुपरेखा को अंतिम रुप दिया जाएगा। बैंकों में चल रही कमीशन खोरी के चलते आज कर्मचारी केवल अपने कमीशन पर ज्यादा ध्यान देता है, जिससे बैंक की हालत खराब होती जा रही है।

श्री सिंह का कहना है कि पहले काम की गुणवत्ता और व्यक्ति की साख को ध्यान में रखकर ऋण दिया जाता था, लेकिन आज इस पर कम ध्यान दिया जा रहा है। हम चाहते हैं कि सरकार डिफाल्टरों की सूची नेट पर डाले, जिसे हर बैंक में आसानी से देखा जा सके। आज के समय में बैंकों का कर्ज कई बड़े लोगों पर है, जो वापसी जमा नहीं कर रहे, इससे बैंक घाटे में जा रहे हैं। सरकार भी उनका कर्जा माफ करती है, जो वापस नहीं देते। इस प्रकार की नीति बंद होना चाहिए।

पत्रकार वार्ता में अखिलेश मोहन, अनुपम कुमार, राजू राय वाराणसी आदि उपस्थित रहे।

Updated : 2016-09-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top