Top
Home > Archived > क्यूबा दौरे के दौरान ओबामा ने उठाया मानवाधिकारों का मुद्दा

क्यूबा दौरे के दौरान ओबामा ने उठाया मानवाधिकारों का मुद्दा

क्यूबा दौरे के दौरान ओबामा ने उठाया मानवाधिकारों का मुद्दा

हवाना । अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी क्यूबा की ऐतिहासिक यात्रा के दौरान जहां एक ओर राष्ट्रपति राहुल कास्त्रो के दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाने के लिये तारीफ की तो वहीं देश में मानवाधिकारों की स्थिति में सुधार लाये जाने पर बल दिया।

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने राहुल के अंतर भुलाकर बातचीत के लिये आगे आने की तारीफ की और कहा कि उनके रिश्ते पूरी तरह से तभी फूले और फलेंगे जब अधिकारों के क्षेत्र में प्रगति होती दिखाई देगी। इनके अभाव में लगता है कि हम एक दूसरे के लिये समस्या बने रहेंगे। उनका यह कहना पूरे क्यूबा में सीधा प्रसारित किया गया।
उन्होंने कहा कि अमेरिका लोकतंत्र में विश्वास रखता है। हम विश्वास करते हैं कि बोलने की आजादी, इक्कठा होने की आजादी और धर्म मानने की आजादी केवल अमेरिकी नहीं बल्कि वैश्विक मूल्य हैं। वहीं दूसरी और क्यूबा के राष्ट्रपति ने बराक ओबामा के वकतव्यों पर नाराजगी जताई और कहा कि दुनिया का कोई देश नहीं है जहां सभी अंतरराष्ट्रीय अधिकारों की रक्षा होती है।

उन्होंने कहा कि क्यूबा में स्वास्थ्य सेवाओं का अधिकार, शिक्षा का अधिकार और महिला समानता का अधिकार है। वहीं अमेरिका में नस्लवाद, पुलिस जायदती, और ग्वांतानामो जेल जैसे नौसैनिक ठिकानें हैं जहां अपराधियों से अमानवीय व्यवहार किया जाता है। उल्लेखनीय है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी ऐतिहासिरक क्यूबा यात्रा के दौरान रविवार को राजधानी हवाना पहुंचे थे । हवाना में अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन विमान के उतरने के बाद उन्होंने ट्विटर कर स्थानीय भाषा में लिखा था ‘क्यू बोला क्यूबा’ जिसका अर्थ है कैसे हो।

विमान में राष्ट्रपति के साथ उनकी पत्नी मिशल ओबामा और उनकी दो बेटियां साशा और मालिया भी उनके साथ थी। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा 88 वर्षों में क्यूबा की यात्रा करने वाले पहले राष्ट्रपति हैं। 1959 में क्यूबा में फिदेल कास्त्रो के नेतृत्व में मुक्ति सेना ने वहां के शासक बटिस्टा को हटाकर सत्ता हासिल की थी। बटिस्टा सरकार को अमेरिका का समर्थन था। इसके बाद दोनों देशों के मनमुटाव इतने बढ़ गये कि कास्त्रों ने देश को साम्यवादी राष्ट्र घोषित कर दिया और रूस को अपना सहयोगी बना लिया। इसके बाद दोनों देश शीतयुद्ध की लड़ाई में उलझ गये।

Updated : 2016-03-22T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top