Latest News
Home > Archived > मंच पर दिखेगी सहस्त्रबाहु मंदिर की झलक

मंच पर दिखेगी सहस्त्रबाहु मंदिर की झलक

मंच पर दिखेगी सहस्त्रबाहु मंदिर की झलक
X

तानसेन समारोह की पूर्व संध्या पर 15 को हजीरा चौराहे पर होगा विशेष आयोजन

ग्वालियर। सुर सम्राट तानसेन की स्मृति में 16 दिसम्बर से शुरू होने जा रहे तानसेन समारोह को और अधिक गरिमामयी बनाने के लिए मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद भोपाल और उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी द्वारा इस बार संगीत रसिकों को कुछ नया देखने और सुनने को मिलेगा। संस्कृति विभाग द्वारा तानसेन समारोह को ओर अधिक आकर्षक बनाने के लिए इस बार दो नए कार्यक्रमों को जोड़ा गया है।

संगीत रसिकों को लुभाने के लिए इस बार तानसेन समारोह प्रारंभ होने की पूर्व संध्या पर जहां 15 दिसम्बर को हजीरा चौराहे पर सुरों की शाम सजेगी। वहीं समारोह का समापन तानसेन की जन्मस्थली बेहट में होगा। लेकिन इस बार संस्कृति विभाग द्वारा ग्वालियर दुर्ग स्थित गूजरी महल में भी शाम के समय संगीत सभा के साथ तानसेन समारोह का समापन होगा।

मंच व्यवस्था भी करेगी आकर्षित
इस बार तानसेन समारोह आयोजन स्थल पर बनाया जाने वाला मंच भी आकर्षण का केन्द्र रहेगा। पिछले वर्ष मंच पर जहां मितावली की पुरासम्पदाओं को दर्शाया गया था। वहीं इस बार सहस्त्रबाहु मंदिर की आकृति बनाई जाएगी। तानसेन समारोह के दौरान पड़ाव स्थित कलावीथिका में17 व 18 दिसम्बर को दोपहर 3 बजे वाद-संवाद का आयोजन किया जाएगा।

शासकीय ललित कला महाविद्यालय में लगेगी प्रदर्शनी
हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में ग्वालियर घराने की संगीत परम्परा का अपना विशिष्ट योगदान रहा है। शासकीय ललित कला महाविद्यालय में 16 से 20 दिसम्बर तक दोपहर 2 बजे से ‘रंग सम्भावना’ शीर्षक से प्रदर्शनी आयोजित की जा रही है। यह प्रदर्शनी कलाप्रेमियों को अपनी कला परम्परा से साक्षात्कार करने का माध्यम बनेगी।

यह होंगे मुख्य कार्यक्रम
* 16 दिसम्बर को प्रात:10 बजे हरिकथा एवं मीलाद शरीफ से होगा।
* समारोह स्थल पर 16 से 20 तक प्रात: 11 बजे दस्तावेज एवं धरोहर प्रदर्शनी।
* आठवीं सभा बेहट ग्राम में 20 दिसम्बर 10.30 बजे।
* तानसेन समारोह की अंतिम सभा गूजरी महल में 20 दिसम्बर रात्रि 8 बजे से।

इनको भी किया है आमंत्रित
इस वर्ष भी समारोह की अंतर्राष्ट्रीय ख्याति को ध्यान में रखते हुए विश्व संगीत की प्रस्तुतियों के लिए नार्वे, ईराक, इसराइल, बेल्जियम एवं स्विट्जरलैण्ड आदि देशों के स्थापित कलाकारों को आमंत्रित किया गया है।

Updated : 2016-11-29T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top