Top
Home > Archived > देश भर में आयकर के छापे

देश भर में आयकर के छापे

देश भर में आयकर के छापे
X



नई दिल्ली। 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने के बाद बुधवार को केन्द्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि जो लोग अब काला धन खपाने की कोशिश करेंगे, वो पकड़े जाएंगे। हुआ भी ऐसा ही है, दिल्ली, मुंबई समेत कई शहरों में आयकर विभाग की टीम ने छापे मारे हैं। जानकारी के मुताबिक दिल्ली में कम से कम चार स्थानों करोल बाग, दरीबा कलां और चांदनी चौक में छापेमारी की गई। मुंबई में तीन स्थानों पर छापा मारा गया। इसके अलावा चंडीगढ़ और लुधियाना में भी छापेमारी की गई। आयकर विभाग की दक्षिण भारत के 2 शहरों में भी छापेमारी की कार्रवाई की सूचना देर रात मिली। सूत्रों के मुताबिक आयकर विभाग को जानकारी मिली थी कि कुछ व्यापारी, ज्वेलर्स, करेंसी एक्सचेंज और हवाला कारोबारी ऊंचे मूल्य की मुद्रा पर रोक का फायदा उठाकर कम कीमत पर नोट बदल रहे हैं। नोटबंदी का फैसला आते ही देश के कई शहरों में देर रात लोगों ने लाखों के काले धन से सोना खरीदा है। ऐसे ही कुछ ज्वेलर्स ने आम दिनों से कई गुना ज्यादा बिक्री दिखाई थी।

उनके यहां आई-टी विभाग की टीम पहुंच गई। जांच हो रही है कि किसने कितने लाख का सोना खरीदा है। दिल्ली में 3-4 जगहों पर, मुंबई और कई दूसरे शहरों में छापेमारी हुई है। कई स्थानों पर कुछ दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। बुधवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कहा था कि जिन्हें जो कुछ खरीदना है खरीद लें, हमारी सब पर नजर है। हालांकि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को भरोसा दिलाया था कि टैक्स अधिकारी उन्हें परेशान नहीं करेंगे जो कम संख्या में 500-1,000 के नोट जमा कराएंगे लेकिन बड़ी राशि जमा कराने वालों के खिलाफ टैक्स कानून के तहत कार्रवाई होगी। आयकर विभाग ने गुरुवार को दिल्ली, मुंबई और अन्य स्थानों पर छापेमारी की। विभाग को सूचना मिली थी कि 500 और 1,000 का नोट बंद होने के बाद व्यापारियों द्वारा हटाई गई करेंसी को बदलने के लिए मुनाफा काटा जा रहा है और साथ ही टैक्स चोरी की जा रही है। यह छापेमारी शाम के समय की गई।

टैक्स अधिकारी चाहते थे कि भुगतान काउंटरों पर कैश इक_ा हो जाए, तो उनकी कार्रवाई असरदार साबित हो सके। सीबीडीटी के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने कल सभी जांच एजेंसियों से टैक्स चोरी रोकने के लिए भारी नकदी की संदिग्ध आवाजाही और दूसरे गैरकानूनी लेनदेन पर नजर रखने को कहा था, जिसके बाद इस कार्रवाई की योजना बनाई गई।

कहीं घबराए बैंक अधिकारी तो कहीं लगी कतारें

केन्द्र सरकार व आरबीआई द्वारा मंगलवार की आधी रात से 500 व 1000 रुपये के नोट बंद किये जाने के बाद गुरुवार सुबह बैंकों में सुबह ही लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। देश में कहीं भारी भीड़ को देखकर बैंक अफसर व कर्मचारी घबरा गए तो कहीं लोगों की लाइन हाईवे तक पहुंच गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 500 और 1000 के नोटों को बंद करने की घोषणा के साथ अधिकांश लोगों की बेचैनी भी बढ़ गई है। शुरूआती दौर में तो यह एक समस्या के रूप में दिखाई दे रही है। लेकिन आगामी दौर में इसके फायदें भी तमाम है। कुल मिलाकर नकली नोटों की खपत जो देश में आ चुकी थी उसका भी शुिद्धकरण हो जाएगा साथ ही दबाए-छुपाए बैठे कालेधन वाले लोगों का पैसा भी उजागर होने की संभावना है।

टिकट निरस्त कराया तो खाते में जाएगा पैसा

केंद्र सरकार ने एयरलाइंस से कहा है कि जो टिकट 500-1000 रुपए के पुराने नोटों से बुक किए जा रहे हैं, उन्हें न तो कैंसल किया जाएगा और न ही पैसे लौटाए जाएंगे। इसके जरिए लोग ब्लैक मनी को व्हाइट करने की कोशिश कर रहे हैं। उधर रेलवे ने भी पैसे की कमी के चलते टिकट कैंसल कराने के बाद पैसा रिफंड करने से मना कर दिया है। यह पैसा बाद में पैसेंजर के अकाउंट में भेजा जाएगा।

कचरे के ढेर में 52 हजार रुपए

गुरुवार को पुणे में रोज की तरह एक कचरा इक_ा करने वाली कूढ़े के ढेर पर पहुंची। इस उम्रदराज गरीब महिला को वहां एक प्लास्टिक बैग दिखा। पुलिस के मुताबिक, महिला का नाम शांता ओव्हाल है। वो सिविक सोसायटी में काम करती है। उसे ये बैग लॉ कॉलेज रोड पर कचरे के ढेर में दिखा था। महिला ने बैग खोलकर देखा तो उसमें एक हजार के नोट भरे हुए थे। हैरान महिला ने फौरन इसकी जानकारी अपने सुपरवाइजर को दी। इसके बाद वो लोग बैग लेकर पुलिस के पास पहुंचे। बैग में एक हजार के 52 नोट थे। पुलिस अब जांच कर रही है कि ये बैग वहां कौन छोडक़र गया था।

Updated : 2016-11-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top