Home > Archived > आरक्षित कोच में भी मारामारी के हालत, सामान्य में पैर रखने की जगह नहीं

आरक्षित कोच में भी मारामारी के हालत, सामान्य में पैर रखने की जगह नहीं

झांसी। देश के पांच दिनी त्यौहार दीपावली के अवसर पर यहां से गुजरने वाली ट्रैनों में हर बार की तरह इस बार भी बेतहाशा भीड़ के चलते यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आरक्षित श्रेणी की कोचों में प्रतीक्षा सूची वाले यात्रियों को तो परेशानी का सामना करना ही पड़ रहा है, साथ ही अचानक कार्यक्रम बनाने वाले यात्री भी सामान्य कोच में यात्रा करने के लिए कई बार सोचने के लिए विवश होते दिखाई दे रहे हैं।

रेलवे स्टेशन के सभी प्लेटफार्म पर त्यौहार की भीड़ का नजारा साफ दिखाई दे रहा है। कई बार देखा जा रहा है कि कई यात्री केवल भीड़ को देखते हुए अगली ट्रेन की प्रतीक्षा करते हुए दिखाई देते हैं।

इटारसी की ओर जाने वाले यात्री रामप्रकाश से बात की तो उन्होंने निराश भाव से कहा कि वह चार घंटे से रेलवे स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे हैं। जो भी ट्रेन आती है, उसमें घुसने तक की जगह नहीं होती, इसलिए अगली ट्रेन की प्रतीक्षा करते करते चार घंटे व्यतीत हो चुके हैं। आगे थोड़ी सी भी जगह मिल जाए, इस बात की गुंजाइश कम ही है, लेकिन चूंकि यात्रा तो करना ही है, इसलिए परेशानी झेलते हुए ही अपनी यात्रा करनी होगी। झांसी रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म चार व पांच पर काफी दबाव बना हुआ है। हालांकि इन दोनों प्लेट फार्मों पर नई दिल्ली की ओर जाने वाली टे्रन आती है। दोनों प्लेटफार्म की भीड़ को देखते हुए यह सहज ही अनुमान लग जाता है कि दिल्ली की ओर जाने वाले यात्रियों की संख्या कुछ ज्यादा ही है।

झांसी से बाहर की ओर जाने वाले यात्रियों की जहां भीड़ बढ़ती जा रही है, वहीं बुन्देलखण्ड क्षेत्र के बाहर काम करने वाले लोगों का लगातार आना बना हुआ है। परिवार के साथ अहमदाबाद से आए एक यात्री मेवाराम का कहना है कि उन्होने साबरमती एक्सप्रेस के सामान्य श्रेणी कोच में यात्रा की। कोच में भारी भीड़ के चलते यात्रा के दौरान कठिनाई का सामना करना पड़ा। पानी भरने के लिए जाने के लिए भी कोच से जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी, तब समीप बैठे यात्री से लेकर बच्चों को पानी पिलाया।

Updated : 2016-10-27T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top