Top
Home > Archived > बाजार में आई आभूषणों की नई श्रंखला

बाजार में आई आभूषणों की नई श्रंखला

बाजार में आई आभूषणों की नई श्रंखला


ग्वालियर, न.सं.। त्योहारों का मौसम शुरू हो गया है। ऐसे में महिलाएं आभूषण न खरीदें ऐसा बहुत ही कम होता है। यूं भी दीपावली पर आभूषण,कपड़े आदि की खरीदारी का विशेष महत्व है और लोग इस अवसर पर जमकर खरीदारी करते हैं।

दीपावली पर इस बार बाजार में ‘सेवन डी’ के आभूषण आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं, इन्हें मुंबई की स्टाइल में बनाया गया है, इस पर की गई कलाकारी इसकी सुन्दरता को और भी बढ़ा रही है । बाजार में इन आभूषणों की कीमत 1.25 से 7 लाख रुपए तक है। इतने महंगे आभूषणों के लिए यह आवश्यक है कि हॉलमार्क का निशान और पक्के बिल के साथ ही इनकी खरीदारी की जाए। ऐसा नहीं करने पर जरा सी लापरवाही आपका बड़ा आर्थिक नुकसान करा सकती है।

शहर में मात्र 15 दुकानों पर हॉलमार्क
शहर में इस समय आभूषणों की लगभग 650 दुकानें हैं। इनमें से मात्र 13 से 15 दुकानें ही हॉलमार्क के लिए अधिकृत हैं, जबकि अन्य व्यापारी अपने हिसाब से आभूषण और सोने के सिक्के बेच रहे हैं। उल्लेखनीय है कि त्यौहारी सीजन के शुरू होते ही बाजार में मिलावटी आभूषणों की बिक्री भी शुरू हो जाती है, ऐसे में हॉलमार्क वाले आभूषण और पक्के बिल के साथ उन्हें खरीदने पर एक ओर जहां हमें आर्थिक नुकसान नहीं होगा वहीं शुद्ध आभूषण मिलेंगे।

युवाओं के लिए डेजलिंग कलेक्शन
युवाओं की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए इस बार शोरूम संचालकों ने डेजलिंग कलेक्शन निकाला है, जिसकी बाजार में कीमत 5999 से 24999 रुपए तक है। इसमें रिंग, इयरिंग और पेन्डल शामिल हैं।

यह रखें सावधानी
- 22 कैरेट के आभूषण और 24 कैरेट के सिक्के ही खरीदें।
- खरीदारी केवल हॉलमार्क वाली दुकान से ही करें।
- 18, से 24 कैरेट का सोना बिना हॉलमार्क के बिलकुल नहीं खरीदें।

हॉलमार्क आभूषण खरीदने के लाभ

हॉलमार्क आभूषणों की शुद्धता ब्यूरो ऑफ इण्डियन स्टेण्डर्स (बीआईएस) से प्रमाणित होती है।

हॉलमार्क आभूषणों को गलवाने पर आप 91.60 की शुद्धता को प्राप्त कर सकते हैं।

आभूषणों को बदलते समय सिर्फ मेकिंग चार्ज ही कटता है।

आभूषणों को कैश बैक करते समय केवल चार प्रतिशत हैंडलिंग चार्ज ही कटता है।

हॉलमार्क आभूषण को कभी भी व किसी भी स्टोर पर बेचा जा सकता है।

हॉलमार्क के कारण आभूषण की शुद्धता प्रमाणित होती है, जिससे आप कभी धोखा नहीं खा सकते।

इन्होंने कहा

‘ज्वैलरी बिना हॉलमार्क के खरीदना अपने आप को धोखा देना है। हॉलमार्क सोने की शुद्धता की गारंटी है जिसे कभी भी बेचने पर हमें पूरे पैसे मिल सकते हैं। हमारे शोरूम पर इस बार ‘सेवन डी’ कलेक्शन आया है जो ग्राहकों को बेहद पसंद आ रहा है। इसी के साथ निम्न और मध्यमवर्गीय लोगों के लिए भी ज्वैलरी की श्रंखला है।’

अखिलेश गोयल
सुवर्णा ज्वैलर्स, सराफा बाजार

Updated : 2016-10-16T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top