Home > Archived > आतंकी हमलों पर बोले रक्षा मंत्री, अब सहने की ताकत खत्म हो गई है

आतंकी हमलों पर बोले रक्षा मंत्री, अब सहने की ताकत खत्म हो गई है

आतंकी हमलों पर बोले रक्षा मंत्री, अब सहने की ताकत खत्म हो गई है
X

जयपुर । रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि अब सहने की क्षमता खत्म हो गई है, जिसने हमें दर्द दिया है, उसे हम भी दर्द देंगे। आगामी आने वाले एक साल में इसका असर नजर आने लगेगा I
जयपुर ग्रामीण संसदीय क्षेत्र में आगामी बजट किस प्रकार का हो, विषय पर जन अपेक्षाओं को जानने के लिए दो दिन के राजस्थान दौरे पर आये रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि सेना में जासूसी चिंता का विषय है। सेना ने इससे निपटने की रणनीति बनाई है। सेना में सीओ स्तर पर सुरक्षा ऑडिट करने के लिए कहा गया है I सुरक्षा के लिहाज से जहां भी खामी नजर आएगी, उसे ठीक किया जाएगा I
सोशल मीडिया के जरिए जासूसी की घटनाएं सामने आने पर रक्षा मंत्री ने कहा कि फेसबुक, वाट्सएप समेत माइक्रो- ब्लागिंग साइट के उपयोग में सावधानी रखने के लिए गाइड लाइन तैयार की जा चुकी है। सेना की ट्रेनिंग के दौरान भी सोशल मीडिया के उपयोग के बारे में जानकारी दी जाएगी। हमें जासूसी के मामलों से बचने के लिए पूरी तरह से मुस्तैद और चौकन्ना रहना होगा।
रक्षा मंत्री पर्रिकर ने कहा कि राजस्थान में आर्डिनेंस फैक्ट्री लगे यह मेरे मन में है, जयपुर और दिल्ली के बीच में यह लगाई जाएगी। इसमें हेलीकाप्टर और लड़ाकू विमान बनाए जाएंगे। राज्य सरकार हमें जमीन देने के लिए तैयार है। जमीन के लिए वह जल्द ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से बातचीत करेंगे I रक्षा मंत्री पर्रिकर ने कहा कि राजस्थान में पर्यटन की बेहतर संभावनाएं है। पर्यटकों को लाने के लिए स्वच्छता महत्वपूर्ण है। हमें साफ सफाई पर ध्यान नहीं देंगे तो पर्यटक हमारे यहां नहीं आएंगे।
उन्होंने कहा कि पर्रिकर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर पहली बार देश के आम बजट में जनता के सुझावों को शामिल किया जा रहा है। सरकार के सभी मंत्री जन अपेक्षाओं को जानने के लिए गृहणियों, युवाओं, किसानों, सरपंच, उद्योगपतियों से चर्चा कर रहे हैं। चर्चा में कई सार्थक बिन्दु निकल रहे हैं। जनता से चर्चा करने से अच्छी जानकारी के साथ ही जमीनी हालात का पता चलता है।
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहली बार बजट में जन इच्छाओं का फीडबैक लेने के लिए सभी केन्द्रीय मंत्रियों को अलग- अलग संसदीय क्षेत्र में भेजा गया है।

Updated : 2016-01-16T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top