Latest News
Home > Archived > भिण्ड-इटावा रेलमार्ग पर नहीं चल पाएगी मालगाड़ी

भिण्ड-इटावा रेलमार्ग पर नहीं चल पाएगी मालगाड़ी

ग्वालियर। इटावा होते हुए कानपुर और लखनऊ को ग्वालियर से सीधे जोडऩे के लिए हाल ही में तैयार हुए भिण्ड-इटावा रेलमार्ग पर मालगाड़ी चलाना रेल विभाग को महंगा और परेशानी भरा महसूस हो रहा है। रेल विभाग से जुड़े सूत्रों की मानें तो भविष्य में इस मार्ग से माल गाडिय़ों का संचालन सिर्फ आवश्यक होने पर ही किया जाएगा।
भिण्ड-इटावा रेलमार्ग पर मालगाड़ी संचालित करना रेल विभाग को उपयुक्त नहीं लग रहा है। रेल विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह रेलमार्ग मालगाड़ी के लिए परेशानियों भरा है, इसलिए भविष्य में भिण्ड इटावा ट्रेक से पैंसेजर गाड़ी का ही सतत संचालन होता रहेगा। भिण्ड-इटावा लाइन के तैयार होने के बाद मुख्य अभियंता (निर्माण) के.डी. राल्हा ने झांसी मण्डल प्रबंधक को इस ट्रेक पर मालगाड़ी संचालित करने के लिए पत्र के माध्यम से 25 फरवारी से अनुमति दे दी थी। ऐसा माना जा रहा था कि अब जब झांसी मण्डल को इस मार्ग पर मालगाड़ी संचालित करने की अनुमति मिल चुकी है तो जल्द ही इस ट्रेक पर मालगाड़ी दौडऩे लगेंगी। इलाहाबाद में बैठे आधिकारियों के अनुसार भिण्ड-इटावा रेल लाइन मालगाड़ी चलाने के लिए उपयुक्त नहीं है। हालंाकि रेलवे ट्रेक की गुणवत्ता पर रेलवे अधिकारियों का कहना है कि ट्रेक में कोई खराबी नहीं है, लेकिन मालगाड़ी संचालित करने के लिए इस मार्ग के स्टेशनों पर व्यापक प्रबंध नहीं हैं, साथ ही मालगाड़ी के लिए यह मार्ग अधिक लम्बा पड़ेगा। इस मार्ग पर इंजनों को वापस मोडऩे की भी समस्या आएगी। इस कारण परीक्षण के तौर पर तो इस मार्ग पर मालगाड़ी चलाई जा सकती है, लेकिन सतत रूप से मालगाड़ी चलाना उचित नहीं है।
उदी स्टेशन पर नहीं है स्टाफ
रेलवे सूत्रों का कहना है कि मण्डल में जहां 100 से अधिक स्टेशन मास्टरों के पद रिक्त हैं वहीं मुख्यालय द्वारा इन रिक्त पदों पर भर्ती प्रक्रिया आरंभ नहीं की जा रही है। ऐसे में नवनिर्मित उदी स्टेशन को शुरू करने के लिए वहां पर रेलवे स्टाफ की आवश्यकता है। मण्डल के पास पहले से ही स्टाफ की कमी है। यदि भिण्ड-इटावा रूट पर गाड़ी का संचालन होता है तो उससे पहले उदी स्टेशन पर स्टाफ का होना आवश्यक है, जो फिलहाल उपलब्ध नहीं हो सका है।

''मालगाड़ी चलाने की अनुमति तो मिल चुकी है। अब इंतजार बोर्ड के आदेश का है। वह जब मालगाड़ी चलाने को कहेंगे, तब गाड़ी चला दी जाएगी।''
नवीन चौपड़ा
मण्डल प्रबंधक, झांसी
''भिण्ड-इटावा रेलमार्ग पर मालगाड़ी चलाना उचित नहीं है क्योंकि इस मार्ग पर मालगाड़ी के सतत संचालन में कई व्यवधान हैं। इस रेलमार्ग पर परीक्षण के तौर पर तो मालगाड़ी संचालित की जा सकती है। ऐसे में भिण्ड-इटावा मार्ग पर केवल पैंसेजर गाड़ी ही सतत रूप से चलाई जा सकती हैं।''
विजय कुमार
सीपीआरओ, इलाहाबाद

Updated : 2015-03-02T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top