Home > Archived > भाग्यवानों को ही मिलती हैं बेटियां: मायासिंह

भाग्यवानों को ही मिलती हैं बेटियां: मायासिंह


ग्वालियर। बेटियां ईश्वर का आशीर्वाद हैं, यह भाग्यवानों को ही मिलती हैं। इनकी रक्षा करना और इन्हें सशक्त बनाने की जिम्मेदारी हम सभी की है। राज्य शासन द्वारा भी बेटियों के संरक्षण संवर्धन के लिये चार हजार करोड़़ रूपए की राशि का प्रावधान अपने बजट में किया गया है। जिसके माध्यम से प्रदेश में महिलाओं को सशक्त बनाने का कार्य किया जा रहा है। यह बात महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने शनिवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कही। इस अवसर पर पार्षद श्रीमती नीलिमा शिंदे व श्रीमती शोभा सिकरवार, संभागायुक्त केके खरे, जिलाधीश पी. नरहरि सहित बड़ी संख्या में महिला एवं बालिकाएं उपस्थित थीं।
भगवत सहाय सभागार में आयोजित कार्यक्रम में श्रीमती माया सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में गत 10 वर्षों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर बालिकाओं के कल्याण के लिये किए गए प्रयासों से प्रदेश को देश में ही नहीं, विदेशों में भी पहचान मिली है। संभागायुक्त केके खरे ने कहा कि अगर बेटियां सशक्त बनेंगी तो वह अपनी रक्षा स्वयं करने में सक्षम होंगी। जिलाधीश पी नरहरि ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा प्रारंभ की गई बेटी बचाओ.बेटी पढ़ाओ अभियान का शुभारंभ आज राष्ट्रीय बालिका दिवस व बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर किया जा रहा है जो एक सुख संदेश है। पार्षद श्रीमती नीलिमा शिंदे ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती के छायाचित्र पर दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया तथा अंत में मुख्य अतिथि द्वारा सभी को बालिकाओं की शिक्षा उनके जन्म, स्नेह व लालन.पालन में समानता बरतने की शपथ दिलाई गई।
कार्यक्रम में संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास सुरेश तोमर, जिला कार्यक्रम अधिकारी बृजेश त्रिपाठी, महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्रीमती अंजू श्रीवास्तव द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया। इसके उपरांत राष्ट्रीय बालश्री पुरस्कार के लिये चयनित जिले की दो बालिकायें कु. मौसम खान व कु. आध्या दीक्षित सहित विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाली बालिकाओं को सम्मानित किया गया। 

Updated : 2015-01-25T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top