Top
Home > Archived > हजारों की पगार फिर भी पढ़ा रहे ट्यूशन

हजारों की पगार फिर भी पढ़ा रहे ट्यूशन

ट्यूशन पढ़ा रहे शा. शिक्षक, सेन्टर छोड़कर भागे, बीईओ ने की छापामार कार्रवाई

भितरवार । शासकीय शिक्षकों द्वारा बिना अनुमति के ट्यूशन पढ़ाए जाने की शिकायतों पर गुरुवार को बीईओ ने टीम गठित कर शासकीय विद्यालयों में पदस्थ शिक्षकों के ठिकानों और निजी कोचिंग संस्थानों पर छापामार कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान दो स्थानों पर शिक्षकों के यहां बच्चे नहीं मिले, जबकि एक शिक्षक के ठिकाने पर बच्चे थे लेकिन कार्रवाई की सूचना मिलने से शिक्षक मौके से भाग गए। वहीं तीन शिक्षक ट्यूशन पढ़ाते हुए मिले, बिना अनुमति के ट्यूशन पढ़ा रहे शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रस्ताव वरिष्ठ अधिकारियों को भेजे जाने की बात बीईओ द्वारा कही गई है।
एसडीएम विजयराज ने नगर में अवैध रूप से कोचिंग सेन्टर चलाने वालों एवं शासकीय शिक्षकों द्वारा बिना अनुमति के ट्यूशन पढ़ाने की शिकायतों पर छापामार कार्रवाई की। छापामार दल में शामिल बीईओ ओपी अजमेरिया, राजेन्द्र शर्मा, संतप्रकाश यादव, बीरेन्द्र कुमार की टीम ने सबसे पहले शासकीय शिक्षक मनीष दुबे और राजीव तेहनगुरिया के ठिकानों पर छापामारा, जहां शिक्षक तो मिले, लेकिन बच्चे नदारद थे, इसके बाद टीम ने उत्कृष्ट विद्यालय के शिक्षक राणा कुन्दन सिंह देवगढ़ विद्यालय में पदस्थ, शिक्षक अरूण जोशी एवं सांखनी संकुल में पदस्थ शिक्षक राकेश वर्मा आदि के यहां बच्चे ट्यूशन पढ़ते हुए मिले। अधिकारियों ने बच्चों व शिक्षक के बयान दर्ज किए। इसके बाद टीम ने यूनिक कॉम्पटीशन कोचिंग सेन्टर पर कार्यवाही की। यहां पर बच्चों ने बताया कि बादाम सिंह बघेल शिक्षक उत्कृष्ट विद्यालय द्वारा ट्यूशन पढ़ाया जाता है जो यहां से कुछ समय पहले ही चले गए हैं, टीम ने यहां पर भी बच्चों के बयान दर्ज किए।

बिना अनुमति के संचालित मिले कोचिंग सेन्टर
कार्रवाई के दौरान टीम ने मण्डेलिया कोचिंग क्लासेस, परख कोचिंग क्लासेस, विश्वकर्मा कोचिंग क्लासेस, चित्रांश कोचिंग क्लासेस, ग्लोरियस कोचिंग क्लासेस पर निरीक्षण किया, इस दौरान संचालक कोचिंग सेन्टर का रजिस्टे्रशन नहीं दिखा पाए। वहीं कोचिंग सेन्टरों पर अनियमितताऐं मिलीं। 

Updated : 2014-08-29T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top