Top
Home > Archived > सोनोग्राफी सेंटरों का करें साप्ताहिक निरीक्षण

सोनोग्राफी सेंटरों का करें साप्ताहिक निरीक्षण

जिलास्तरीय सलाहकार समिति की बैठक आयोजित

भिण्ड। जिलाधीश एम. सिबि चक्रवर्ती ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार पीसी पीएनडीटी एक्ट के अंतर्गत जिलास्तरीय सलाहकार समिति सोनोग्राफी सेंटरों पर सप्ताह में एक बार निरीक्षण सुनिश्चित करें जिससे भ्रूण लिंग परीक्षण व गर्भपात रोकने में मदद मिलेगी। वे आज अपने चेम्बर में आयोजित जिलास्तरीय गर्भधारण पूर्व प्रसव तकनीकी अधिनियम के अंतर्गत जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राकेश शर्मा, प्राकृतिक चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर की श्रीमती मीना शर्मा, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. व्ही.सी. जैन, गायनोजिलिस्ट डॉ. राधा अग्रवाल, एडवोकेट रमाकांत शर्मा, समाजसेवी श्रीमती रमन मित्तल, मीडिया अधिकारी मनोज आर्य, चिकित्सक, बीएमओ, बीपीएम व समिति सदस्य उपस्थित थे।
जिलाधीश एम. सिबि चक्रवर्ती ने कहा कि भिण्ड जिले में संचालित सोनोग्राफी सेंटरों पर सतत निगरानी रखी जाए, साथ ही अल्ट्रासाउंड सोनोग्राफी सेंटरों पर शासन के निर्देशानुसार ट्रेकिंग सिस्टम लगाने की सुविधा सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि भ्रूण लिंग परीक्षण व गर्भपात रोकने के लिए समाजसेवी संस्थाओं व जनसामान्य का सहयोग लेने की पहल की जाए। साथ ही एसएसएम ग्रुप सिस्टम के माध्यम से वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करने की व्यवस्था भी लागू की जाए।
जिलाधीश ने कहा कि पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. जागरूकता अभियान के अंतर्गत कार्य कर रही संस्था म.प्र. प्राकृतिक चिकित्सा ग्वालियर के माध्यम से दो अगस्त को सायं छह बजे जनपद पंचायत गोहद पर बैठक आयोजित कर जागरूकता कार्यक्रम को गति दी जाए। बैठक में बीएमओ स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक, एएनएम, आशा कार्यकर्ता व स्वयंसेवी संस्थाओं को भी बुलाया जाए।
श्री चक्रवर्ती ने कहा कि डॉ. एन.एन. गर्ग व डॉ. कुलश्रेष्ठ द्वारा यूएसजी खोलने के लिए दिए गए आवेदनों पर क्लेरीफिकेशन नोटिस एक्ट के अंतर्गत जारी किया जाए, साथ ही गोहद के निवोदिया सेंटर की पुरानी सोनोग्राफी मशीन शील्ड करने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि अटेर क्षेत्र के अंतर्गत प्रतापपुरा में लिंगानुपात कम है जिसे बढ़ाने के प्रयास किए जाएं, साथ ही विकासखंड अटेर के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में लिंगानुपात बढ़ाने के प्रयास जारी रखे जाएं एवं सही जानकारी आगामी बैठक में प्रस्तुत की जाए।
उन्होंने कहा कि जनसंख्या स्तरीकरण के लिए पखवाड़ा आयोजित किया गया है, जिसमें नसबंदी ऑपरेशन के मामले कम किए गए हैं। इन मामलों को बढ़ाने के लिए प्रत्येक मैदानी कर्मचारी को दो-दो का लक्ष्य प्रदान किया गया है जिसकी पूर्ति की जानकारी गोहद बैठक दो अगस्त में उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने विगत बैठक की कार्रवाई विवरण भी प्रस्तुत किया। इसी प्रकार गोहद में दो अगस्त को जागरूकता अभियान चलाया जाएगा जिसमें प्रत्येक कर्मचारी को दो नसबंदी ऑपरेशन कराने का लक्ष्य दिया जाएगा।

बीपीएम का दो दिन का वेतन काटने के निर्देश
जिलाधीश एम. सिबि चक्रवर्ती ने पीसी पीएनडीटी एक्ट के अंतर्गत आयोजित जिला सलाहकार समिति की बैठक में रौन के बीपीएम राकेश कुमार पवार ने लिंगानुपात की जानकारी व्यवस्थित तरीके से प्रस्तुत न करने पर उनका दो दिन का वेतन काटने के निर्देश मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी को दिए।


Updated : 2014-07-22T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top