Home > Archived > भारतीय नौसेना ने दिए पोत डूबने की जांच के आदेश

भारतीय नौसेना ने दिए पोत डूबने की जांच के आदेश

भारतीय नौसेना ने दिए पोत डूबने की जांच के आदेश
X

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना ने कल रात विशाखापत्तनम के समुद्रतट के पास एक टॉरपीडो रिकवरी पोत के डूबने की जांच का आज आदेश दिया। नौसेना अधिकारियों का कहना है कि सेशेल्स की चार दिन की यात्रा पर गए नौसेना प्रमुख चीफ एडमिरल आर.के धोवन इस हादसे के मद्देनजर सेशेल्स की यात्रा बीच में ही छोड़कर स्वदेश लौट रहे हैं। इस हादसे में एक नाविक की मौत हो गई जबकि चार अन्य नाविक अभी भी लापता हैं। उन चार नाविकों का पता लगाने के लिए तलाश एवं बचाव अभियान शुरू कर दिया गया है इसके साथ ही, नौसेना अधिकारियों ने बताया कि बोर्ड ऑफ इन्क्वायरी हादसे के विभिन्न पहलुओं की पड़ताल करेगा और पता लगाएगा कि किन कारणों से 31 साल पुराना यह पोत डूबा।
नौसेना ने अपने एक बयान में बताया गया है कि पोत रात करीब आठ बजे डूबा। यह पोत एक ‘‘नियमित’’ अभ्यास के दौरान बेड़े के पोतों से दागे गए टॉरपीडो इकट्ठे करने के नियमित मिशन पर था। उन्होंने बताया कि तभी इसके एक कक्ष में पानी भरने का पता चला। नौसेना ने बताया कि ‘बचाव अभियान के दौरान चालक दल के एक सदस्य की मृत्यु हो गई और चार जवानों के लापता होने की रिपोर्ट है। 23 लोगों को क्षेत्र में भेजे गए तलाशी और बचाव पोतों ने सुरक्षित बचा लिया है।
नौसेना अधिकारियों का कहना है कि पोत में पानी भरना उस समय शुरू हुआ जब जहाज अभ्यास में इस्तेमाल नकली टॉरपीडो एकत्रित करके लौट रहा था। टॉरपीडो रिकवरी वेसल (टीआरवी) एक सहायक जहाज होता है जिसका इस्तेमाल बेड़े के जहाजों और पन्डुब्बियों से अभ्यास के दौरान दागे गए टॉरपीडो को एकत्रित करने के लिए किया जाता है। गौरतलब है कि इस जहाज का निर्माण 1983 में गोवा शिपयार्ड द्वारा किया गया था और इसने पिछले 31 साल तक भारतीय नौसेना की सेवा की है। पिछले कुछ महीनों में नौसेना को ऐसे कई हादसों का सामना करना पड़ा है।
वहीं, इस तरह की दुर्घटनाओं के मद्देनजर एडमिरल डी के जोशी के इस्तीफे के बाद इस साल 17 अप्रैल को एडमिरल आर के धवन ने नौसेना प्रमुख का पद संभाला था। एडमिरल जोशी ने आईएनएस सिंधुरत्ना पर आग लगने की घटना के तुरंत बाद इस्तीफा दिया था।

Updated : 2014-11-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top