Home > Archived > भारत और वेस्टइंडीज के बीच मुकाबला आज

भारत और वेस्टइंडीज के बीच मुकाबला आज

किंग्सटन | आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफी विजेता भारतीय टीम पिछली जीत की खुमारी को पीछे छोड़ जब त्रिकोणीय सीरीज में विजयी आगाज कर चुकी मेजबान वेस्टइंडीज के सामने उतरेगी तो उसके लिए विपक्षी टीम के तूफानी बल्लेबाज क्रिस गेल को रोकना सबसे बड़ी चुनौती होगी।
भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी पहले ही कह चुके हैं की उनकी टीम पर पिछली जीत की खुमारी नहीं है। लेकिन मैदान पर टीम इंडिया को यह साबित करना होगा। भारतीय टीम चैंपियन्स ट्रॉफी का खिताब जीतकर सीधे त्रिकोणीय सीरीज में खेलने पहुंची है। एक ओर जहां पिछली जीत उसके लिए सकारात्मक शरूआत और आत्मविश्वास के टॉनिक का काम करेगी तो दूसरी ओर लगातार खेलते रहने की थकान को मैदान पर न दिखने देना उसकी सबसे बड़ी चुनौती होगी।
दूसरी ओर वेस्टइंडीज की टीम अपने घरेलू मैदान पर खेल रही हैऔर यह उसके लिए सबसे अधिक फायदेमंद साबित होगा। कैरेबियाई टीम ने अपना पिछला मैच अपने तूफानी बल्लेबाज क्रिस गेल के शानदार प्रदर्शन की बदौलत जीता था। वेस्टइंडीज ने श्रीलंका को त्रिकोणीय सीरीज के पहले मैच में छह विकेट से हराकर विजयी शरूआत की और अब उसके सामने भारतीय टीम होगी। ऐसे में उसका लक्ष्य हर हाल में जीत के अभियान को जारी रखना होगा।
वेस्टइंडीज इस समय अपने घरेलू मैदान पर शानदार फॉर्म में दिखाई दे रही है। ओपनिंग मैच में उसकी बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही कमाल की थी। बल्लेबाज गेल ने जहां अपनी शतकीय पारी से अकेले दम पर ही लक्ष्य तक पहुंचने में मदद की तो वहीं गेंदबाज सुनील नारायण (चार विकेट), रवि रामपॉल (तीन विकेट), कप्तान ड्वेन ब्रावो (दो विकेट) ने अपनी घातक गेंदबाजी से विपक्षी टीम के बल्लेबाजों को खूब पानी पिलाया।
हालांकि टीम इंडिया को कमतर आंकने की भूल शायद ही इस समय दुनिया की कोई भी टीम कर सकती है। चैंपियन टीम इंडिया कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के नेतृत्व में जबरदस्त फॉर्म में है। चैंपियन्स ट्रॉफी के प्रदर्शन को देखें तो टीम इंडिया के बल्लेबाजों, गेंदबाजों ने जहां खुद को साबित किया और टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारा वहीं उसके क्षेत्ररक्षण में कमाल का सुधार देखने को मिला है।
इंग्लैंड की जमीन पर भारतीय टीम के इस कमाल ने दिखा दिया है कि वह विदेशी जमीन पर भी अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम हैं। यदि टीम के बल्लेबाजी क्रम की बात करें तो उसके पास ओपनिंग में रोहित शर्मा, शानदार फॉर्म में चल रहे शिखर धवन, सुरेश रैना, युवा बल्लेबाज विराट कोहली, ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा और खुद कप्तान धौनी हैं।
धवन को यदि इस समय टीम इंडिया की रन मशीन कहा जाए तो गलत नहीं होगा। आईपीएल के बाद चैंपियन्स ट्रॉफी सभी टूर्नामेंटों में धवन ने अपने प्रदर्शन से सभी चौंकाया है। चैंपियन्स ट्रॉफी में तो धवन को उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द सीरीज घोषित किया गया था। ऐसे में कैरेबियाई टीम के लिए भी मुश्किलें कम नहीं है।
भारतीय टीम ने हाल ही में संपन्न हुए टूर्नामेंट में भी वेस्टइंडीज को आठ विकेट से मात दी थी और अब बारी है जब एक बार टीम इंडिया अपने उसी प्रदर्शन को दोहराए। वेस्टइंडीज के पास गेल के अलावा जॉनसन चार्ल्स, मार्लेन सैम्युअल्स, कीरोन पोलार्ड, डैरेन सैमी के रूप में मजबूत बल्लेबाजी क्रम है।
लेकिन टीम इंडिया में अच्छे बल्लेबाजों के अलावा बढ़िया गेंदबाजों की भी कोई कमी नहीं है। भुवनेश्वर कुमार, ईशांत शर्मा, उमेश यादव, ऑलराउंडर जडेजा और रविचंद्रन अश्विन सभी गेंदबाज फॉर्म में हैं और पिछले टूर्नामेंट में इनका प्रदर्शन संतोषजनक रहा था।
ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि दोनों टीमों के बीच किंग्सटन में होने वाला यह मुकाबला बेहद रोमांचक होगा।


Updated : 2013-06-30T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top