Home > Archived > फफक पड़े साध्वी के परिजन, उन्हें ही फंसाने की साजिश का आरोप

फफक पड़े साध्वी के परिजन, उन्हें ही फंसाने की साजिश का आरोप

ग्वालियर | 'हमारी बेटी के साथ हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना को कुछ लोग अलग रूप देने का प्रयास कर रहे हैं। इस घटना में परिजनों को ही फंसाने का षड्यंत्र कुछ असमाजिक तत्वों द्वारा किया जा रहा है। हमारे ऊपर जानलेवा हमला भी हो सकता है। यह आशंका है कि कुछ लोग सोनल की मारपीट का आरोप परिजनों पर ही लगाने का प्रयास कर सकते हैं। यह तो मेरी बेटी थी मैं जब मर जाऊंगा तब किसी भी बहन बेटी को हाथ लगने दूंगा।
आंखों में आंसू और भर्राई आवाज में शनिवार को जयारोग्य अस्पताल में यह बात पीडि़ता साध्वी सोनल के ताऊ वीरेन्द्र जैन ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही। उन्होंने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि कुछ गुंडे चोरी या लूट के उद्देश्य से घर में आए। सो रही सोनल की नींद खुलने पर वे उसे मुंह बंद कर छत के रास्ते से पड़ौसी अशोक धोबी के घर ले गए तथा दुष्कृत्य का प्रयास किया। सोनम ने आरोपियों का डटकर मुकाबला किया और सील, संयम व तप के बल पर वह खुद को बचाने में सफल तो हुई मगर आरोपियों द्वारा की गई मारपीट से उसके शरीर में गंभीर चोटें लगी हैं जिससे उसके हाथ व पैरों की हड्डियां टूट गई हैं। बेटी के चीखने की आवाज सुनकर उसे बचाने पहुंचे उसके पिता से भी आरोपियों ने मारपीट की। परिजनों के खिलाफ साजिश, आखिर कौन रच रहा है। कौन फंसाना चाहता है उन्हें? सवाल पर वीरेन्द्र जैन ने कहा कि अभी इस बारे में कुछ नहीं कहना चाहते। आरोपियों की पहचान होते ही सब बता दिया जाएगा।
श्री जैन ने बताया कि घटना में अशोक धोबी, प्रदीप यादव और उसके तीन-चार अन्य साथी शामिल हैं। दो के अलावा शेष आरोपियों की पहचान कराई जा रही है। इसके बाद ही उनके नाम उजागर किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि पुलिस ने उन्हें भरपूर सहयोग किया है। पुलिस फरार आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई भी करने जा रही है। चेम्बर पदाधिकारी भूपेन्द्र जैन ने कहा कि पूरा जैन समाज पीडि़त परिवार के साथ है। समाज ने पुलिस अधिकारिये से चर्चा की है जिन्हें आरोपियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई का आश्वासन मिला है।
घबराहट में निकल रही हैं चीखें
भिण्ड में बदमाशों की मारपीट की शिकार हुई जैन साध्वी उपचार के दौरान अचानक घबरा जाती है। शनिवार को मीडिया कर्मियों द्वारा परिजनों की अनुमति से उसका फोटो लिया तो अचानक वह घबरा गई और उसकी चीखें निकल गईं। उसकी सांस तेज चलने लगीं। परिजनों ने तुरंत ही मीडिया कर्मियों व अन्य परिजनों को बाहर किया। 

Updated : 2013-03-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top