Latest News
Home > Archived > भोजशाला में कड़ी सुरक्षा

भोजशाला में कड़ी सुरक्षा

धार | मध्य प्रदेश के धार जिले के भोजशाला में बसंत पंचमी पूजा व नमाज अदा कराए जाने को लेकर बढ़ते तनाव के मददेनजर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल की तैनाती है और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की टुकडियां भी तैनात की गई हैं।
भोजशाला को हिंदू सरस्वती का मंदिर व मुस्लिम मस्जिद मानते हैं। इसको लेकर बीते डेढ़ दशक से विवाद चला आ रहा है। वर्तमान में भोजशाला भारतीय पुरात्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अधीन है। शुक्रवार 14 फरवरी को बसंत पंचमी के चलते एक बार फिर विवाद के हालात बन गए हैं, क्योंकि भोजशाला आयोजन समिति पहले ही बसंत पंचमी के पूरे दिन पूजा करने का एलान कर चुका है। भारतीय पुरात्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने पूर्व में ही पूजा व नमाज की व्यवस्था कर रखी है। इसके मुताबिक हर मंगलवार व बसंत पंचमी को पूजा और शुक्रवार को नमाज होती है। इस बार पंचमी शुक्रवार को है लिहाजा एएसआई ने गुरुवार 14 फरवरी और शुक्रवार 15 फरवरी को दोपहर साढ़े 12 बजे तक पूजा व एक से तीन बजे तक नमाज करने के निर्देश जारी किए हैं।
एएसआई द्वारा जारी निर्देश के बाद सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। इंदौर के आयुक्त व पुलिस महानिरीक्षक खुद सुरक्षा इंतजाम पर नजर रखे हुए हैं। एएसआई द्वारा की गई व्यवस्था के बाद गुरुवार को गिनती के लेग ही पूजा करने भोजशाला पहुंच रहे हैं।
पुलिस महानिरीक्षक अनुराधा शंकर का कहना है कि सुरक्षा के पर्याप्त इंजताम हैं और एएसआई द्वारा दिए गए निर्देशों के मुताबिक पूजा व नमाज होगी। इसके लिए प्रशासन ने पूरे इंतजाम किए हैं।
भोजशाला तक जाने के लिए विशेष बेरिकेट्स लगाए गए हैं और पूरे इलाके में सुरक्षा बल की तैनाती है, जो आने जाने वालों पर नजर रख रही है। पुलिस बल के साथ सीआरपीएफ व आरपीएफ के जवान भी सुरक्षा में लगे हैं।


Updated : 2013-02-14T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top