Home > Archived > भगवा हमारी संस्कृति का प्रतीक है : सुषमा स्वराज

भगवा हमारी संस्कृति का प्रतीक है : सुषमा स्वराज

भगवा हमारी संस्कृति का प्रतीक है : सुषमा स्वराज
X

नई दिल्ली । जयपुर के कांग्रेस के चितंन शिवर में गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के बयान पर भापजा ने कंग्रेस और सरकार पर तीखे हमले जारी कर दिए हैं। भाजपा ने शिंदे को बर्खास्त करने प्रधानंत्री मनमोहन और सोनिया गांधी से माफी मांगने को लेकर आज दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन का आयोजन किया। धरने में आये लोगों को संबोधित करते हुए लोकसभा में विपक्ष के नेता सुषमा स्वराज ने कहा कि शिंदे ने राष्ट्रवादी संस्था संघ और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा को आतंकी करार दिया था। स्वराज ने कहा कि बद में अपने बयान ये पलटते हुए शिंदे ने कहा कि वह भगवा आतंकवाद की बात कह रहे थे। सुषमा ने कहा कि शिंदे को इस बात का ज्ञान हीं है कि भगवा हमारे संस्कृति का प्रतीक है।
भाजपा नेता ने कहा कि भगवा बलिदान, वैभव और त्याग का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि भगवा उस समय से देश में है जब न तो संघ था और न ही भाजपा थी। उन्होंने कहा कि शिंदे को भारत का इतिहास जानने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शिंदे को भगवा का ताकत देखनी है तो उन्हें प्रयाग में लगे कुंभ जाना चाहिए जहां चारों ओर भगवा ही दिख रहा है। उसका किसी दल,संस्था या राजीतिक पार्टी से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि यही लोग है भगवा के संवाहक।
कंग्रेस, शिंदे और सरकार पर निशाने साधते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि शिंदे ने कांग्रेस की हित की बात और भाजपा कि अहित की बात की होती तो कोई बात हीं होती, लेकिन उन्होंने पूरे विश्व में भारत को कटघरे में खडा कर दिया कि देश के संसद में बैठक विपक्ष के लोग आंकवादी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग भी विभन्न कारणों से गये भाजपा ने उनका विरोध भी किया पर कभी भी पूरी कांग्रेस पार्टी को गत नहीं कहा।
सुषमा स्वराज ने कहा कि गृहमंत्री का बयान ऐसे समय में जब देश अपने दो जवानों शहादत का शोक मना रहा था। उन्होने कहा कि पाकिस्तान के इस करतूत के बाद सबसे पहले मैनें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को फोन कर कहा कि आप उचित कदम उठाये हम आपके साथ है। उन्होंने कहा कि भाजपा देश भक्ति की बात कह रही थी और शिंदे देश को बांटने का काम कर रहे थे।
कांग्रेस द्वारा शिंदे के बायान से पल्ला झाडन पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कांग्रेस के अन्य नेता पहले तो शिंदे के बायान के साथ खडे रहे पर देश का मूड देखते हुए अब कांग्रेस को इससे अलग कर रही उन्होंने कहा कि जर्नादन द्विवेदी के बयान से समाधान हीं निकलेगा। उन्होंने कहा कि इस मूदे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनियो गांधी और मनमोहन सिंह को माफी मांगनी ही पडेगी तथा शिंदे को बर्खास्त करना पडेगा। केन्द्रीय गृहसचिव पर भी निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि गृहसचिव ने जो बयान दिया है वह शिंदे के इशारे पर दिया है। उन्होंने कहा कि जब तक शिंदे को बर्खास्त नहीं किया जाता पार्टी का यह आन्दोलन जारी रहेगा और पार्टी इस मुददे को संसद के दोनो सदनों में जोरदार ढंग से उठाएगी। धरना में सुषामा सहित भाजपा के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राजनाथ सिंह और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भाग लिया। धरने का आयोजन प्रदेश भाजपा द्वारा किया गया था।


Updated : 2013-01-24T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top