Top
Home > Archived > सावन का पहला सोमवार कल सजा हरिद्वार

सावन का पहला सोमवार कल सजा हरिद्वार

सावन का पहला सोमवार कल सजा हरिद्वार

देहरादून| तीर्थ नगरी हरिद्वार का चप्पा चप्पा इस वर्ष के पहले श्रावणी सोमवार $img_titleके अवसर पर लाखों की संख्या में पहुंचे शिवभक्त कांवरियों के लिये सजधज कर तैयार है । पूरे शहर में अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था की गयी है। पूरे शहर में पुलिस तथा सुरक्षाकर्मियों को अत्याधिक सतर्क कर दिया गया है । भिक्षा मांगने वाले छोटे-छोटे बच्चों की जानकारी खंगाली जा रही है। सनातन धर्म की मान्यता के अनुसार श्रावण महीने में भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिये लाखों की संख्या में कांवरिये हरिद्वार से गंगाजल लेकर विभिन्न स्थानों पर स्थित भगवान शंकर के मंदिरों में जलाभिषेक करते हैं । पूरी तीर्थ नगरी में इस समय पांच लाख से भी अधिक कांवरिये पहुंच चुके हैं । चारों तरफ ‘हर हर बम बम’ के नारे लगाते हुये कांवरियों को आते जाते देखा जा सकता है ।जिला प्रशासन ने इस अवसर पर पूरे क्षेत्र की सुरक्षा के लिये जहां सादे वेश में पुलिसकर्मियों को चप्पे चप्पे पर तैनात किया है वहीं हर की पैड़ी, चंडीघाट, प्रेमनगर घाट सहित अन्य स्थानों पर सशस्त्र पुलिस बल की 24 घंटे निगरानी सुनिश्चित की गयी है । जिलाधिकारी सचिन कुर्वे ने बताया कि कांवरियों के हॉकी, डंडे, त्रिशूल तथा घातक हथियार सहित म्यूजिक सिस्टम लेकर चलने पर रोक लगा दिया गया है। श्रावण महीने की शुरूआत गत चार जुलाई से हुई है तथा नौ जुलाई को पहला सोमवार है । मान्यताओं के अनुसार सोमवार को भगवान शिव का दिन माना जाता है और इस दिन लाखों की संख्या में कांवरियों द्वारा की जाने वाली पूजा पाठ तथा जलाभिषेक के लिये पुजारियों तथा पंडों की गद्दियां भी सजी हुई हैं । धार्मिक मान्यताओं के अनुसार देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले कांवरिये पहले गंगा किनारे पूजा पाठ करते हैं और इसके बाद ही वे अपनी-अपनी गगरी तथा कमंडल में गंगाजल लेकर अपने इष्ट भगवान शिव के मंदिर में जलाभिषेक के लिये पद यात्रा करते हैं ।

Updated : 2012-07-08T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top