Latest News
Home > Archived > बीजेपी से नाता तोड़ते येदियुरप्पा की आंखों में आए आंसू

बीजेपी से नाता तोड़ते येदियुरप्पा की आंखों में आए आंसू

बीजेपी से नाता तोड़ते येदियुरप्पा की आंखों में आए आंसू
X


बेंगलुरु:
भारतीय जनता पार्टी के साथ एक लंबा अरसा बिताने के बाद उसकी प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने की घोषणा कर चुके कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा आज पार्टी से अपने लंबे जुड़ाव को याद करके भावुक हो गए। हालांकि उन्होंने बीजेपी नेताओं पर अपने खिलाफ 'षडयंत्र' रचने को लेकर आज भी निशाना साधा।

आंखों में आ रहे आंसुओं को रोकने की कोशिश करते हुए उन्होंने कहा, पार्टी ने मुझे सब कुछ दिया और मैंने भी पार्टी के लिए अपना सर्वस्व कुर्बान कर दिया।

येदियुरप्पा ने कहा कि वह अपने (बीजेपी के) ही लोगों के कारण पार्टी छोड़ रहे हैं। वे नहीं चाहते कि मैं पार्टी में बना रहूं, इसीलिए मैं पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और विधायक पद से भी इस्तीफा दे रहा हूं। समझा जाता है कि दोपहर में वह अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष केजी बोपैया को सौंप देंगे। येदियुरप्पा पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा भी फैक्स से भेजेंगे।

येदियुरप्पा ने कहा कि (बीजेपी में) कुछ लोग नहीं चाहते थे कि मैं मुख्यमंत्री बनूं। वे मुझे किनारे लगाना चाहते थे। मैं पिछले एक साल से काफी धैर्य के साथ इसकी अनदेखी कर रहा था। उन्होंने कहा, मैं काफी दुख के साथ पार्टी छोड़ रहा हूं। किसी भी व्यक्ति का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि राज्य के कुछ नेताओं ने 'मेरी पीठ में छुरा भोंका है।'

येदियुरप्पा का जाना बीजेपी के लिए करारा झटका होगा, लेकिन पार्टी नेता ऐसा मानने को तैयार नहीं हैं। लिंगायत समुदाय से संबंध रखने वाले 70-वर्षीय येदियुरप्पा को कर्नाटक में बीजेपी को सत्ता में लाने का श्रेय दिया जाता है।

दक्षिण भारत में बीजेपी ने कर्नाटक में ही पहली बार सरकार बनाई। येदियुरप्पा ने जोर देकर कहा कि वह अपनी नई क्षेत्रीय पार्टी 'कर्नाटक जनता पार्टी' (केजेपी) बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उनकी इस पार्टी की औपचारिक शुरुआत 9 दिसंबर को हवेरी में होगी।

अपने समर्थकों को बीजेपी की ओर से की जाने वाली अनुशासनिक कार्रवाई से बचाने के लिए येदियुरप्पा ने कहा, मैंने मंत्रियों, सांसदों और विधायकों से कहा है कि वे पार्टी की शुरुआत से जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा न लें। मैं चाहता हूं कि मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार की अगुवाई वाली सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे। 

Updated : 2012-11-30T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top