Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > मथुरा > समसामयिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर जीएलए में हुआ एचआर काॅन्क्लेव

समसामयिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर जीएलए में हुआ एचआर काॅन्क्लेव

-काॅरपोरेट दिग्गजों ने बताए सफलता के मंत्र, गहन विषयों पर मंथन

समसामयिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर जीएलए में हुआ एचआर काॅन्क्लेव

मथुरा। उद्योग जगत के साथ मिलकर समसामयिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए अपने विद्यार्थियों को तैयार करने हेतु प्रतिबद्ध जीएलए विश्वविद्यालय में प्रबंधन संकाय द्वारा बदलते परिवेश में मानव संसाधन से जुड़े विभिन्न महत्वपूर्ण पहलुओं पर मंथन हेतु उद्योग एवं शिक्षा जगत के विषय विशेषज्ञों को एक मंच पर लाते हुए सस्टेनिंग सक्सेस थ्रू इनोवेशन थीम पर आधारित एचआर काॅन्क्लेव का आयोजन किया।

आयोजन का शुभारंभ आमंत्रित अतिथियों, विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आनंद मोहन अग्रवाल, कुलसचिव अशोक कुमार सिंह, विभिन्न विभागों के अध्यक्षों, शिक्षकों एवं विद्यार्थियों की उपस्थिति में माँ सरस्वती व प्रेरणा स्त्रोत स्व. गणेशीलाल अग्रवाल के चित्रपट पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन कर हुआ। तत्पश्चात् विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आनंद मोहन अग्रवाल ने आमंत्रित अतिथियों का स्वागत करते हुए कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम की विषयवस्तु के बारे में बताते हुए विभागाध्यक्ष स्नातक प्रो. सोमेश धमीजा ने कहा कि वर्तमान समय में इनोवेशन की नितांत आवश्यकता है जिसके अभाव में बड़ी कंपनियां भी अपना अस्तित्व खो देती हैं।

कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित कश्मन एंड वेकफील्ड के मैनेजिंग डायरेक्टर कैप्टन राजेश शर्मा ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि हर व्यक्ति को एक जादूगर की भांति कठिन से कठिन कार्य को भी आसानी से कर लेने की क्षमता स्वयं में विकसित करनी चाहिए।

एकाॅम इंडिया के सीनियर एचआर निदेशक प्रवीण गुप्ता ने अपने अनुभव एवं कहानियों के माध्यम से विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि सफलता हेतु निरंतर हो रहे बदलावों को समाहित करने की क्षमता व्यक्ति विशेष में होनी चाहिए।

टाटा मोटर्स के टेलेंट एक्वीजेशन हैड सुशांत रोत्रे ने जोमेटो, स्विगी, ओला, ऊबर आदि का उदाहरण देते हुए विद्यार्थियों को समझाया कि किस प्रकार तकनीक हमारी जीवनशैली में बड़ा बदलाव लेकर आ रही है। टेकसिस्टम से रिक्रूटमेंट निदेशक श्रीवत्स नगरजैया ने अपने संबोधन की शुरूआत जापानी दंतकथा को सुनाते हुए की, जिसके माध्यम से उन्होंने सफलता एवं सतत् बदलावों के आपसी संबंध को समझाया।

तत्पश्चात सस्टेनिंग सक्सेस-रिडिफाइनिंग द रिआल्म्स थीम आधारित प्रथम सत्र में अपने विचार एवं राय व्यक्त करते हुए मिलेकल इंजी. के सीईओ बालाजी थयालन, पर्ल ग्लोबल इंडस्ट्रीज के ग्लोबल एचआर हैड़ आशुतोष शर्मा, वोल्टास इंडिया के जोनल एचआर निर्झर नागर, सन लाइफ इंडिया के सीनियर एचआर मैनेजर सचिन शर्मा, साॅट बैंक एनर्जी के टेलेंट एक्वीजेशन हैड हिमांशु राॅय, सेनेप्स इंडिया के वाइस प्रेसीडेंट पारितोष अग्रवाल, मोंटेकारलो के एचआर एवं एडमिन हैड जिग्नेश साहा, पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस के नेशनल एचआर हैड सतीश सिंह आदि ने कहा कि मानव संसाधन किसी भी संस्थान की धुरी है और उस संस्थान की उन्नति एवं सफलता में इसका अहम् योगदान है।

इनोवेशन एण्ड सक्सेस-द काॅर्पोरेट क्रोनीकल थीम आधारित द्वितीय सत्र में गुड प्यूपल रिलेशन एचआर कंसल्टिंग के संस्थापक जीपी राव, बीथ्री फैमिली के (बाॅडिंग बियाॅण्ड बाउंड्रीज) के संरक्षक अजय कुमार प्रसाद, कल्पतरू पावर ट्राॅसमिशन के सीनियर वीपी एचआर प्रवीण कुमार, जेएमसी प्रोजेक्ट्स के सीनियर वीपी एचआर दीपक सक्सेना, गु्रप ई एसइवी इंडिया की एवीपी एचआर अंजली सचदेवा, ग्रीन रेस टेक्नोलाॅजी के सीईओ राघव तेजपाल आदि ने इस विषय वस्तु पर प्रकाश डाला कि काॅर्पोरेट जगत में इनोवेशन की महत्ता दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

उपरोक्त के अतिरिक्त जेके आॅर्गेनाइजेशन के गु्रप सीएचआरओ प्रेम सिंह, लुमिनस पावर से नेहा मेहरोत्रा, गेट्स एअर के अनिल भारद्वाज, मेट्रीमनी डाॅट काॅम के बादल गर्ग, तहल गु्रप से माण्डवी मिश्रा, स्माइल गु्रप की लतिका सुनेजा, बिडफोर बेस्ट टेक्नोलाॅजी के जयंत सिंह, मेट्रोपोलीस हेल्थकेअर के पीयूष उपाध्याय, इंटर आर बिल्डिंग के महेश वर्मा, एमएसडी वेलकम ट्रस्ट से स्वाती यादव, जमिल एअर कंडीशनर से संदीप कुमार राय, नोवोइनवेंट से पुष्पेन्द्र कुमार, ओमेक्स आॅटो से दीपक भास्कर, मनीटू मोटर्स से राजेश दत्ता, ब्रिजिंग गेप से रवीश गुप्ता, प्लानेट पीसीआई इंफोटेक से अभिजीत प्रकाश, एडयूक्यू से अरूण गुप्ता, लोएश इंडिया से प्रसन्न कुमार, सुगल एंड दामिनी गु्रप से ज्योति शर्मा, एबिक्स साॅफ्टवेयर से हर्ष राज जैन, एसएम इलेक्ट्राॅनिक्स से राजीव आनंद आदि समेत विभिन्न अतिथियों एवं वक्ताओं ने काॅन्क्लेव के आयोजन पर जीएलए विश्वविद्यालय को बधाई देते हुए कहा कि वर्तमान परिदृश्य में यह विषय बेहद तार्किक है।

धन्यवाद ज्ञापन देते हुए विभागाध्यक्ष स्नातकोत्तर प्रो. विकास त्रिपाठी ने सभी अतिथियों एवं वक्ताओं का आभार व्यक्त किया एवं कहा कि निश्चित तौर पर कार्यक्रम के दौरान हुए विचार मंथन का लाभ विद्यार्थियों को मिलेगा।

कार्यक्रम के सफल आयोजन पर विश्वविद्यालय के सेक्रेटरी सोसायटी एवं कोषाध्यक्ष नीरज अग्रवाल ने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि निश्चित तौर पर आयोजन के विभिन्न सत्रों के दौरान विशेषज्ञों से मिले ज्ञान एवं मार्गदर्शन के माध्यम से विद्यार्थी अपने ज्ञान एवं क्षमताओं में वृद्धि कर पायेंगे। काॅन्क्लेव के सफल संचालन में समस्त विभागीय शिक्षक-शिक्षिकाओं का योगदान सराहनीय रहा।

स्वदेश मथुरा ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top