Home > धर्म > जीवन-मंत्र > धनतेरस पर होगी धन वर्षा

धनतेरस पर होगी धन वर्षा

राशि के अनुसार खरीदारी करने से होगा विशेष लाभ, घर में विराजेंगी महालक्ष्मी

धनतेरस पर होगी धन वर्षा

ग्वालियर। धनतेरस का त्यौहार पांच नवम्बर सोमवार को मनाया जाएगा। इसको लेकर व्यापारी और आमजन उत्साहित हैं। इस दिन बाजारों में जमकर धन वर्षा होगी। ज्योतिषाचार्य के अनुसार कार्तिक मास की कृष्ण त्रयोदशी को धनतेरस कहते हैं। इस दिन घर के द्वार पर तेरह दीपक जलाकर रखे जाते हैं। यह त्यौहार दीपावली आने की पूर्व सूचना देता है। इस दिन से दीपोत्सव का पांच दिनों तक चलने वाले त्यौहार की शुरूआत हो जाती है। इस दिन नए बर्तन, सोना, चांदी, वाहन और इलेक्ट्रोनिक्स सामान खरीदना बेहद शुभ माना जाता है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार इस बार धनतेरस पर ऐसे योग बन रहे हैं, जिससे राशि के अनुसार खरीदारी करने से घर में सुख-संपत्ति आएगी और महालक्ष्मी जी की कृपा बनी रहेगी। धनतेरस के दिन मृत्यु के देवता यमराज और भगवान धनवंतरी की पूजा का विशेष महत्व होता है।

क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्यौहार

भारतीय संस्कृति में स्वास्थ्य का स्थान धन से ऊपर माना जाता रहा है। यह कहावत आज भी प्रचलित है कि 'पहला सुख निरोगी काया, दूजा सुख घर में मायाÓ इसलिए दीपावली में सबसे पहले धनतेरस को महत्व दिया जाता है। जो भारतीय संस्कृति के हिसाब से बिल्कुल अनुकूल है। शास्त्रों में वर्णित कथाओं के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी अपने हाथों में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। मान्यता है कि भगवान धनवंतरी विष्णु के अंशावतार हैं। संसार में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धनवंतरी का अवतार लिया था। भगवान धनवंतरी के प्रकट होने के उपलक्ष्य में ही धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है।

राशि के अनुसार करें खरीदारी

-मेष राशि वालों के लिए खरीदारी का समय दोपहर 3 से 5 बजे तक तांबे, सोने की वस्तुएं, केशर, लालचंदन की माला, लाल रंग के सामान शुभ हैं।

-वृष वाले दोपहर 3 से 5 बजे तक एवं शाम 7 से 9 बजे तक चांदी के सिक्के, चांदी और स्टील के बर्तन एवं हीरे के आभूषण खरीद सकते हैं।

-मिथुन राशि वाले दोपहर 3 से 5 बजे तक कांसे के बर्तन, पन्ना, पनाना की अंगूठी, सोने में हरे नाग जडि़त समान इलेक्ट्रॉनिक सामान आदि।

-कर्क राशि वाले शाम 7 से 9:20 बजे तक मोती, चांदी के सिक्के, चांदी और स्टील के बर्तन।

-सिंह राशि वाले दोपहर 3 से 5 एवं शाम 7: से 9 तक सोने के समान, तांबे के बर्तन, घी, माणिक्य आदि।

-कन्या राशि वाले शाम 7 से 9 बजे तक हरा वस्त्र, फल, इलायची, कांसे का बर्तन आदि।

-तुला राशि वाले शाम 7 से 9 बजे तक हीरे जडि़त स्वर्ण आभूषण, डायमंड, स्टील के बर्तन आदि।

-वृश्चिक राशि वाले शाम 7 से 9 बजे तक तांबे के बर्तन, गुड़, गेहूं, केशर इलेक्ट्रॉनिक सामान आदि।

-धनु राशि वाले दोपहर 3 से 5 बजे तक सोने के आभूषण, सिक्के, हल्दी, पुखराज व पुस्तक।

-मकर राशि वाले दोपहर 3 से 5 व शाम 7 से 9 बजे तक इलेक्ट्रॉनिक समान, वाहन, लौंग, तिल, शीशा।

-कुंभ राशि वाले 3 से 5 बजे तक इलेक्ट्रोनिक्स सामान, वाहन, नीलम एवं सुरमा को खरीदें।

-मीन राशि वाले शाम 7 से 9 बजे तक सोने के आभूषण, बर्तन, तांबा के बर्तन केशर एवं पुस्तक आदि।

क्या करें इस दिन

इस दिन अपने सामथ्र्य के अनुसार किसी भी रूप में चांदी एवं अन्य धातु खरीदना अति शुभ है। धन संपत्ति की प्राप्ति हेतु कुबेर देवता के लिए घर के पूजा स्थल पर दीप दान करें एवं मृत्यु देवता यमराज के लिए मुख्य द्वार पर भी दीप दान करें। इस दिन अपने घर की सफाई भी अवश्य करें। ज्योतिषाचार्य के अनुसार विशेष शुभ फल प्राप्ति के लिए इस दिन प्रात: स्नान पूजन आदि से निवृत होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें और अपनी राशि के अनुसार ही सामान खरींदे।

पूजा ऐसे करें

ज्योतिषाचार्य के अनुसार खरीदारी के लिए अलग-अलग राशि के अनुसार वस्तुएं और समय है। परंतु पूजा के लिए शाम को प्रदोषकाल में शाम को छह से आठ बजे तक का मुहूर्त है, जो दीपदान, कुबेर पूजा और भगवान धनवंतरि की पूजा के लिए विशेष शुभ है। इस दिन मिट्टी का एक बड़ा दीपक लें और उसे रूई की बत्ती से चौमुखा बना लें। इस दीपक में तिल, सरसों या अलसी का तेल और चार हरि मंूग डालें। इसमें लोहे की कील और एक कोड़ी डाल दें और मुहुर्त के अनुसार दरवाजे के बाहर दक्षिण मुख कर रखें। घर के अंदर पूजा स्थल पर कुबेर यंत्र, लक्ष्मी और भगवान धनवंतरि का पूजन करें। कुबेर यंत्र अच्छा हो तो शुभ है वर्ना पुराने यत्र की भी पूजा की जा सकती है।

इनका कहना है

'धनतेरस का त्यौहार इस बार विशेष लाभकारी है। इस दिन राशि के अनुसार खरीदारी करने से शुभ फल की प्राप्ति होगी।

डॉ. एच.सी. जैन

ज्योतिषाचार्य

Tags:    

Swadesh News ( 5164 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top