Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > आतंकी अलर्ट के मद्देनजर 3 नवम्बर के क्रिकेट मैच के लिए अभेद्य सुरक्षा बंदोबस्त

आतंकी अलर्ट के मद्देनजर 3 नवम्बर के क्रिकेट मैच के लिए अभेद्य सुरक्षा बंदोबस्त

आतंकी अलर्ट के मद्देनजर 3 नवम्बर के क्रिकेट मैच के लिए अभेद्य सुरक्षा बंदोबस्त

नई दिल्ली। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) और जम्मू-कश्मीर में सक्रिय कुख्यात आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 3 से 4 आतंकियों के एक समूह के दिल्ली में गड़बड़ी फैलाने की फिराक में जुटे होने का खुफिया अलर्ट मिलने के बाद दिल्ली पुलिस सतर्क हो गई है। इस बार मध्य जिले के अरुण जेटली स्टेडियम में भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों और दर्शकों की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गए हैं। क्योंकि खुफिया अलर्ट में बताया गया है कि आतंकियों की हिट लिस्ट में भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली भी हैं।

तीन नवम्बर को होना है मैच

अरुण जेटली स्टेडियम में तीन नवम्बर को भारत और बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बीच टी-20 मैच खेला जाएगा। इस मैच के लिए सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये जा रहे है। खुफिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के निर्देश पर लश्कर और जैश के आतंकी इस बार क्रिकेट टीम पर बड़े हमले की साजिश में जुटे हुए हैं। खुफिया सूचना में यह भी कहा गया है कि हमले को अंजाम देने के लिए आतंकी अफगानिस्तान इलाके के आसपास के लोगों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा

खुफिया सूचना के बाद दिल्ली पुलिस भी अलर्ट हो गई है। तीन नवम्बर को होने वाले मैच के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने भी सुरक्षा बढ़ा दी है। दिल्ली पुलिस के करीब चार हजार जवान अरुण जेटली स्टेडियम के आसपास सुरक्षा की कमान संभालेंगे। इसके अलावा पैरामिलिट्री फोर्स की 50 से ज्यादा कंपनियां मुस्तैद रहेंगी।

होटलों में संदिग्धों पर पैनी नजर

पुलिस सूत्रों के अनुसार, अरुण जेटली स्टेडियम के आस-पास काफी सारे होटल है। ऐसे में पुलिस ने होटल, गेस्ट हाउस में हाई लेवल चेकिंग शुरू कर दी है। इनमें एक महीने से आने जाने और ठहरने वालों के नाम, पते की जांच की जा रही है। पुलिस टीम ने होटल में सीसीटीवी कैमरों की मूवमेंट, रिकॉर्डिंग, उनके रखरखाव, फुटेज का डाटा भी चेक करना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में इन जगहों पर वाहनों के आने जाने का रिकॉर्ड भी पुलिस चेक कर रही है। लोकल थाने हाईअलर्ट पर हैं। पब्लिक मूवमेंट वाली जगहों पर सादा कपड़ों में पुलिस कर्मियों को निगरानी के लिए तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही क्विक रिएक्शन टीम की मूवमेंट को भी बढ़ा दिया है।

पुलिस के सुरक्षा चक्र को तोड़ना मुश्किल

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार आतंकी हमले की सूचना के बाद पुलिस ने खिलाड़ियों के होटल से लेकर स्टेडियम तक सुरक्षा के ऐसे कड़े बंदोबस्त किए हैं, जैसे वह स्वतंत्रता दिवस समारोह में करते है। स्टेडियम के आतंरिक घेरे की सुरक्षा की कमान स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) को दी गई है, वहीं एनएसजी के कमांडो फोर्स और अर्धसैनिकल बलों की टीम की भी तैनाती की गई है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबलों की तैनाती के चलते स्टेडियम से लेकर करीब 200 मीटर तक के दायरे को छावनी में तब्दील कर दिया जायेगा। सुरक्षा को अभेद्य बनाने की कवायद में स्टेडियम के अंदर व बाहर सांकेतिक कोडिंग कर 'सुरक्षा खाका' तैयार किया गया है। खिलाड़ियों व मैच देखने आये लोगों पर कमांडो दस्ते पैनी नजर रखेंगे।

स्टेडियम के आसपास 16 पराक्रम वाहन

खिलाड़ियों के होटल से लेकर स्टेडियम तक अत्याधुनिक हथियारों से लैस 16 कमांडो वाहन 'पराक्रम' को सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के लिए लगाया जायेगा।

स्टेडियम व आसपास रूफटॉप दस्ते की तैनाती

इसके अलावा स्टेडियम और आसपास के इलाकों में स्थित उंची इमारतों पर दूरबीन और अत्याधुनिक हथियारों से लैस रूफ टॉप दस्ते की तैनाती की जायेगी। वहीं जगह-जगह मचान बनाकर भी कमांडो दस्ते की तैनाती की जा रही है। स्टेडियम की सुरक्षा में तैनात दिल्ली पुलिस सहित अन्य सुरक्षा एजेंसियों के आला अधिकारियों के बीच आपस में पल-पल की सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए वैकल्पिक तौर पर तीन कंट्रोल रूम भी बनाए जायेंगे। स्टेडियम व आसपास के पूरे इलाके को सीसीटीवी से लैस कर दिया गया है, ताकि किसी भी संदिग्ध व्यक्ति या वाहन पर पैनी नजर रखी जा सके। इसके साथ ही डॉग स्क्वॉयड व बम स्क्वॉयड की टीम भी कुछ समय के अंतराल पर इलाके की जांच-पड़ताल करती रहेगी। (हि.स.)

Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Share it
Top