Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > क्षेत्रीय कार्यालय में कर संग्रहक को पीटा, विवाद सम्पत्तिकर का

क्षेत्रीय कार्यालय में कर संग्रहक को पीटा, विवाद सम्पत्तिकर का

भवन के सम्पत्तिकर में आए अंतर की वसूली को लेकर गुरुवार को नगर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक तीन में उस समय हड़कंप मच गया जब भवन स्वामी ने क्षेत्रीय पार्षद के सामने कर संग्रहक की लात घूसों से पिटाई कर दी।

क्षेत्रीय कार्यालय में कर संग्रहक को पीटा, विवाद सम्पत्तिकर का

ग्वालियर | भवन के सम्पत्तिकर में आए अंतर की वसूली को लेकर गुरुवार को नगर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक तीन में उस समय हड़कंप मच गया जब भवन स्वामी ने क्षेत्रीय पार्षद के सामने कर संग्रहक की लात घूसों से पिटाई कर दी। इस मामले में निगम कर्मचारियों का कहना है कि क्षेत्रीय पार्षद ने भी कर संग्रहक पर हाथ आजमा दिए थे। जबकि पार्षद का कहना है कि मैंने तो टीसी को बचाया है। कर संग्रहक के साथ हुई हाथापाई को लेकर नगर निगम के कर्मचारियों में काफी आक्रोष है। वहीं सत्ता पक्ष के दबाव के चलते एक टीसी थाने में शिकायत करने भी नहीं जा पाया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार क्षेत्रीय कार्यालय क्रमांक 3 पर लूटपुरा निवासी राकेश प्रजापति के 24 सौ फुट पर बने दो मंजिला मकान को लेकर वार्ड क्रमांक 8 की भाजपा पार्षद सीमा राठौर के पति धर्मवीर राठौर के कहने पर एक नामातंरण फाइल लगाई गई थी। लेकिन फाइल में सिर्फ एक मंजिला भवन की जानकारी देने पर टैक्स जमा किया गया। बाद में जब कर संग्रहक भगवान दास अर्गल भवन का निरीक्षण करने पहुंचे, तो उन्होंने भवन स्वामी राकेश प्रजापति से टैक्स जमा करने को कहा।

गुरुवार को भवन स्वामी क्षेत्रीय कार्यालय जा पहुंचे व कर संग्रहक भगवानदास अर्गल से टैक्स के मामले को लेकर चर्चा की, लेकिन जब बात नहीं बनी, तो भवन स्वामी ने क्षेत्रीय पार्षद सीमा राठौर के पति धर्मवीर राठौर से शिकायत की।पार्षद के साथ मौके पर पहुंचे भवन स्वामी ने कर संग्रहक की जमकर मारपीट कर डाली। उधर निगम कर्मचारियों का कहना है कि पार्षद पति ने कर संग्राहक के साथ मारपीट की है। लेकिन खबर लिखे जाने तक कर संग्रहक ने मारपीट की शिकायत थाने में दर्ज नहीं कराई थी।

कर संग्रहक पिटता रहा, किसी ने नहीं बचाया

गुरुवार को क्षेत्रीय कार्यालय में नगर निगम के अन्य कर्मचारी भी मौजूद थे। लेकिन जब भवन स्वामी द्वारा कर संग्रहक के साथ मारपीट की जा रही थी, उस समय कोई भी निगम कर्मचारी बीच बचाव करने नहीं आया।


Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top