Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > कैसे चलेगी साइकिल, ट्रैक पर खटिया डालकर सोते हैैं लोग

कैसे चलेगी साइकिल, ट्रैक पर खटिया डालकर सोते हैैं लोग

शहर में स्मार्ट सिटी योजना के तहत प्रमुख मार्गों पर साइकिल किराए पर चलाने की योजना है।

कहीं चल रहे वर्कशॉप, कहीं ऑटो स्टैण्ड, कहीं खड़े ठेले

ग्वालियर । शहर में स्मार्ट सिटी योजना के तहत प्रमुख मार्गों पर साइकिल किराए पर चलाने की योजना है। इसके लिए सड़क किनारे साइकिल ट्रैक बनाने का काम तेजी से चल रहा है। जिन मार्गों पर साइकिल ट्रैक बनाया जा रहा है वहां कई बाधाएं सामने आ रही हैैं । लेकिन इस ओर कोई अधिकारी भी ध्यान नहीं दे रहे है। सरकारी खजाने में जमा रकम को अधिकारी ठिकाने लगाने के लिए इस बात का भी ध्यान नहीं रख रहे कि ठेकेदार द्वारा जो काम किए जा रहे हैं, वह ठीक से चल भी रहे हैं या नहीं। वर्तमान में नवनिर्मित साइकिल ट्रैक की गुणवत्ता भी अच्छी नजर नहीं आ रही है। ट्रैक का जो हाल है उसे देखकर लगता है कि बैटरी वाली साइकिल चलाने की योजना कैसे सफल होगी। होटल सेंट्रल पार्र्क के पास व साइंस कॉलेज के पास पुलिया बनी है। यहां पर ट्रैक को खत्म कर मोड़ दिया। वहीं गांधी रोड पर जगह-जगह बिजली के खंभे और ट्रांसफार्मर लगे हैं। ट्रैक के बीच में खंभे खड़े होने से रास्ता ही बंद हो जाता है। साइंस कालेज के पास खटिया डालकर लोग सोते हैं। तो गांधी रोड पर गैराज चलाने वाले अपने वाहनों को वहीं ठीक करते रहते हैं।

बारिश में बह जाएंगे साइकिल ट्रैक

नगर निगम द्वारा जो साइकिल ट्रैक बनाए जा रहे हैं, उनकी गुणवत्ता पर कोई भी अधिकारी ध्यान नहीं दे रहा है। बताया जा रहा है कि अगर बारिश हुई तो साइकिल ट्रैक बारिश में बह सकता है। वर्तमान में बने साइकिल ट्रैक पर साइकिल तो कम चलती दिखाई देती हैं। उस पर दो पहिया वाहन चालक वाहन खड़े करते हैं। इसके अलावा हाथ ठेले वाले ठेला लगाकर व्यापार करते हैं ।

साइकिल ट्रैक पर झोपड़ पट्टी वालों का कब्जा

एजी ऑफिस से आगे साइकिल ट्रैक पर कही लोग झोपड़ी बनाए बैठे है तो कहीं मूर्तियां बनाई जा रही है। रात के समय सड़क किनारे झोपड़ी बनाकर रहने वाले लोग साइकिल ट्रैक पर खटिया डालकर सोते नजर आ रहे है।

यहां है ट्रैक :--

- एजी आफिस से साइंस कॉलेज से नाका चंद्रबदनी तक।

- गांधी रोड पर दोनों तरफ जीवाजी विवि तिराहे तक।

- सचिन तेंदुलकर मार्ग से कुलपति आवास तक।

- कुलपति बंगले से न्यू हाईकोर्ट तिराहे तक।

न हटे बिजली के पोल नहीं बनी सूची

जिन मार्गों पर साइकिल ट्रैक बनाए जा रहे है, उन मार्गों पर लगे बिजली के पोलों को हटाने के लिए निगमायुक्त ने अधिकारियों से कहा था, लेकिन अभी तक न तो बिजली के पोलों को हटाने की कार्रवाई हुई, और न ही सूची बन पाई।




Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top