Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने संयुक्त पंजीयक को किया निलंबित, जानें मामला

सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने संयुक्त पंजीयक को किया निलंबित, जानें मामला

सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने संयुक्त पंजीयक को किया निलंबित, जानें मामला

ग्वालियर। मंत्री के निर्देश के बावजूद सहकारिता विभाग के संयुक्त पंजीयक को पैसे लेकर काम करने के मामले में सहकारिता एवं सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह ने संयुक्त पंजीयक अभय कुमार खरे को निलंबित करने के आदेश दिए हैं लहार विधायक और प्रदेश कैबीनेट मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने ग्वालियर में पत्रकारवार्ता लेकर यह जानकारी दी उन्होने यहां स्पष्ट निर्देश दिए कि कांग्रेस सरकार में भ्रष्टाचार के लिए कोई जगह नहीं है और जो लोग भी भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाएंगे उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने हों। पत्रकार वार्ता में एपेक्स बैंक के संचालक अशोक सिंह, कांग्रेस नेता वासुदेव शर्मा और बृजमोहन सिंह परिहार मौजूद रहे।

दरअसल पूरा मामला गुना जिले के गड़ाह कॉपरेटिव बैंक का है यहां किसी काम के लिए डॉ गोविंद सिंह ने संयुक्त संचालक अभय कुमार खरे को आदेश जारी किए थे बावजूद इसके शिकातय मिली कि उन्होने पैसे लेकर काम किया है जिसपर सहकारिता मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने रविवार को जानकारी दी कि संयुक्त संचालक को निलंबित करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं और आगे भी कॉपरेटिव डिपार्टमेंट में किसी भी तरह का भ्रष्टाचार बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

प्रदेश में अवैध उत्खनन का मामला उठाकर सुर्खियों में आए डॉ गोविंद ने यहां जानकारी दी कि उनके द्वारा मामला उठाने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस मामले में सख्ती दिखाते हुए आधिकारियों को कड़ी कार्रवाइ्र करने के आदेश जारी किए थे इसी का असर है कि अब प्रदेश में अवैध खनन पर 90 प्रतिशत तक रोक लग सकी है और आगे भी किसी भी तरह का उत्खनन नहीं होने दिया जाएगा।

प्रदेश में उमंग सिंघार और दिग्विजय सिंह के समर्थकों के बीच लगातार हो रही बयानबाजी पर उन्होने कहा कि जिंदा लोग ही बोलते हैं और अपनी बात रखने को सभी को अधिकार है लेकिन सार्वजनिक रूप से बयानबाजी पूरी तरह अनुशासन हीनता है और कांग्रेस अनुशासन कमेटी इस मामले में कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है।

मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि जब 2003 में कांग्रेस सरकार में वे सहकारिता मंत्री थे तो सहकारिता विभाग सरप्लस विभाग था और ग्रामीण क्षेत्रों में भी 70 प्रतिशत तक वसूली होती थी लेकिन भाजपा के पंद्रह साल के शासन काल में इस विभाग को भ्रष्टाचार विभाग बना दिया गया जिसका परिणाम है कि आज कॉपरेटिव की कई बैंकों पर ताले लग चुके हैं और कर्मचारियों को बेरोजगारी की कगार पर पहुंचा दिया है।

अगली बार नहीं लड़ेंगे लहार से विधायकीः-

मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि उन्होने विधानसभा चुनावों के दौरान ही घोषणा कर दी थी कि वे लहार विधानसभा से अगला चुनाव नहीं लड़ेंगे उन्होने कहा कि लहार क्षेत्र की सेवा करते हुए उन्हें 35 साल हो गए हैं और अब वे नए लोगों के लिए अगला चुनाव लहार नहीं लड़ने का मन बना चुके हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री एवं मशहूर वकील राम जेठमलानी के निधन पर शोक व्यक्त किया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा कि देश ने पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री राम जेठमलानी के निधन से एक कुशल विधिज्ञ खो दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, राम जेठमलानी की कानून, सामाजिक कार्य, राजनीति पर अच्छी पकड़ थी। कानून के क्षेत्र में उन्होंने अपनी बुद्धिमानी से नया कीर्तिमान स्थापित किया था। जेठमलानी ने एसोसिएशन ऑफ इंडिया का अध्यक्ष पद भी विभूषित किया था। फडणवीस ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटलजी के नेतृत्व में राम जेठमलानी ने केंद्रीय विधि व न्याय तथा नगरविकास मंत्रालय बखूबी संभाला था। आपातकाल के दौरान भी रामजेठमलानी की भूमिका सराहनीय थी।

महाराष्ट्र भाजपा प्रदेश प्रवक्ता माधव भंडारी व पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने भी राम जेठमलानी के निधन पर शोक जताया है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top