Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > शिवराज सिंह ने कहा - बेटियों को बचाने के लिए गैर राजनीतिक करेंगे आंदोलन शुरू

शिवराज सिंह ने कहा - बेटियों को बचाने के लिए गैर राजनीतिक करेंगे आंदोलन शुरू

शिवराज सिंह ने कहा - बेटियों को बचाने के लिए गैर राजनीतिक करेंगे आंदोलन शुरू

भोपाल। अभी हाल ही में भोपाल में नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी इसके कारण एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बेटियों को बचाने के लिए गैर राजनीतिक आंदोलन शुरू करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही वो इसके लिए एक गैर राजनीतिक आंदोलन शुरू करेंगे।

आपको बता दें कि इस घटना को लेकर सूबे की राजनीति गरमा गई थी और इस तरह की घटनाओं को कैसे रोका जाए, इस पर मंथन के लिए भोपाल में शनिवार को बैठक रखी गई। इस बैठक में तय किया गया कि भोपाल में हर मोहल्ले में मोहल्ला समिति बनाई जाएगी। शिवराज सिंह ने इस दौरान बयान दिया कि वो जिस दिन भी भोपाल में रहेंगे एक मोहल्ले में जरूर जाएंगे। इसके साथ ही शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल में चल रहे हुक्का लाउंज बंद कराने पर भी जोर दिया।

उन्होंने कहा कि दरिंदों को जल्द फांसी पर लटकाने के लिए भारत के मुख्य न्यायमूर्ति को भोपाल से एक लाख पोस्ट कार्ड लिखे जाएंगे, जो 7 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायमूर्ति को भेजे जाएंगे। इस दौरान शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ये आंदोलन सरकार के खिलाफ नहीं होगा, बल्कि सामाजिक आंदोलन होगा और हमारी अपील है कि इसमें सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ भी शामिल हों।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बेटियों को बचाने के लिए अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्तियों पर नजर रखनी होगी. उनकी पहचान करना होगी और उन्हें सार्वजनिक रूप से दंडित कराना होगा. ऐसी प्रवृत्ति के लोगों के मन में कानून और समाज का भय पैदा करना जरूरी है. शिवराज ने बच्चियों और महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों के लिए नशे को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि आज गली-गली, मोहल्ले-मोहल्ले में नशीली चीजें उपलब्ध हैं, जिसका सेवन करने के बाद आदमी, आदमी नहीं रहता, वह जानवर बन जाता है।

बेटियों को बचाने के लिए मोहल्ला समिति बनाने का सुझाव भी शिवराज सिंह ने ही दिया. उन्होंने कहा कि ये समितियां बेटियों से चर्चा करें और उनसे पूछें कि कोई उन्हें परेशान तो नहीं कर रहा. समितियां खुद भी अपने स्तर पर नजर रखें. इसके अलावा बेटियों को शारीरिक रूप से सक्षम बनाने पर भी ध्यान देना चाहिए, ताकि वे अत्याचारियों का मुकाबला कर सकें. इसके लिए उन्हें मार्शल ऑर्ट्स की ट्रेनिंग दी जानी चाहिए।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top