Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > एनडीआरएफ जवानों का जोशीला प्रदर्शन, घायलों को साठ फुट ऊंचाई से सुरक्षित उतारा

एनडीआरएफ जवानों का जोशीला प्रदर्शन, घायलों को साठ फुट ऊंचाई से सुरक्षित उतारा

एनडीआरएफ जवानों का जोशीला प्रदर्शन, घायलों को साठ फुट ऊंचाई से सुरक्षित उतारा

राहत और बचाव का छद्म अभ्यास: डीबी मॉल में भडक़ी आग, जहरीली गैस भी रिसी

भोपाल/मध्य स्वदेश संवाददाताशनिवार की शाम 4:30 बजे राजधानी भोपाल में एमपी नगर में स्थित डीबी मॉल की चौथी मंजिल पर आग लगने की सूचना मिली। दमकल विभाग, 108, आपातकालीन एम्बूलेंस सेवा, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, होमगार्ड, पुलिस सहित अन्य स्थानीय राहत दल घटना स्थल पर पहुंचे तथा बचाव कार्य आरंभ किया। दमकल ने पानी फैंककर जहां आग पर काबू पाया वहीं एनडीआरएफ और एसडीआरएफ जवानों ने आग से घिरे घटनास्थल 60 फुट ऊंचे भवन पर चढक़र रस्सियों के सहारे घायलों को नीचे उतारा तथा प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल पहुंचवाया।

डीबी मॉल में अग्निकांड की यह घटना वास्तविक नहीं होकर, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 11वीं वाहिनी द्वारा राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) सहित अन्य शासकीय व अशासकीय संस्थाओं के साथ मिलकर किया गया आपातकालीन परस्थिति में बचाव का छद्म अभ्यास था। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की 11वीं वाहिनी के कमांडेंट देवेन्द्र कुमार के निर्देशन में हुए इस छद्म अभ्यास में केवल अग्निकांड ही नहीं बल्कि जलरीली गैस रिसने की स्थिति में एनडीआरएफ टीम द्वारा किए जाने वाले बचाव और राहत का उत्कृष्ट प्रदर्शन किया गया। गैस रिसने पर एनडीआरएफ जवानों ने न केवल गैस से स्वयं की सुरक्षा के उपाय दर्शाए, बल्कि आधुनिक उपकरणों के माध्यम से गैस रिसने का स्थान एवं श्रोत खोजकर गैस रिसना बंद किया साथ ही साथ गैस से अचेत एवं बीमार हुए लोगों को तुरंत प्राथमिक उपचार देकर अस्पताल पहुंचाने का आकर्षक प्रदर्शन किया। छद्म अभ्यास के दौरान एक भवन के गिरने की स्थिति में राहत और बचाव कार्य का भी प्रशंसनीय प्रदर्शन राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के जवानों ने किया। जवानों के खतरनाक प्रदर्शनों को देख मॉल परिसर में उपस्थित आमजन की सांसें थम गईं, वहीं प्रदर्शन के दौरान उपस्थित अधिकारियों ने शाबाशी दी। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की 11वीं वाहिनी द्वारा आयोजित आपात राहत और बचाव के इस छद्म प्रदर्शन में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, होम गार्ड्स, एसडीईआरएफ, सिविल डिफेंस, नेहरु युवा केन्द्र,एनएसएस, एनसीसी, स्काउट एंड गाइड, अग्निशमन, एसएसबी, बीएसएफ तथा नगर निगम आदि संस्थाओं ने भी सहयोग किया। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित अधिकारियों और आमजन द्वारा एनडीआरएफ दल द्वारा बचाव कार्य में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। प्रदर्शन के दौरान 11 बटालियन एनडीआरएफ महान भारत सागर, डीजी होमगार्ड राजेश कुमार शर्मा, डीआईजी एसडीआरएफ कौशलेश राय, कमांडेंट के एस परिहार, डिवीजनल कमांडेंट देवेंद्र कुमार , उप कमांडेंट, टीम कमांडर, निरीक्षक गोपी गुप्ता,विनीत कुमार, डी के पाण्डे,रोहित भारद्वाज, एएसआई विजय कुमार, लाल जी शुक्ला, संतोष कुमार, मुकेश राय, एच एन तिवारी उपस्थित रहे। आरआरसी भोपाल के 120 सदस्यीय दल ने हिस्सा लिया।

अचेत को पीठ पर, बच्चें को गोद में उतारा


राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के छद्म अभ्यास में सबसे अधिक रोमांचक वह दृष्य रहा जब साठ फुट ऊंची चार मंजिला भवन के ऊपर से जवानों ने अपने कौशल से घायलों को सुरक्षित नीचे उतारा। एक प्रदर्शन में जवान एक अचेत पीडि़त को पीठ पर लादकर रस्सियों के सहारे नीचे उतरा तो एक प्रदर्शन एक मासूम को गोद में लेकर उतरने का किया गया। इसी प्रकार रस्सियों के सहारे बनाए गए रेंप बेस के माध्यम से स्टे्रचर पर लेटाकर घायल को नीचे उतारना व ऊपर चढऩे का मार्ग अवरुद्ध होने की स्थिति में रस्सियों के सहारे साठ फुट की ऊंचाई पर जवान का चढऩे जैसे प्रदर्शनों को देख लोग खुद को ताली बजाने से नहीं रोक सके।

Naveen ( 1696 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top