Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > 'साख' बचाने नेता पत्नियों पर 'दांव'

'साख' बचाने नेता पत्नियों पर 'दांव'

साख बचाने नेता पत्नियों पर दांव

भाजपा-कांग्रेस के कई नेताओं ने बढ़ाएं अपनी पत्नियों के नाम

कई नेताओं की पत्नियों ने अपने पति के लिए संभाला मैदान

भोपाल/सुमित शर्मा। लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों की साख दांव पर लगी हुई है। भाजपा, कांग्रेस सहित बसपा, सपा एवं अन्य दल अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं। जीत के दावों के साथ कई नेताओं की भी इज्जत का सवाल है। हर दल चुनाव जीतकर अपनी सरकार बनाना चाहते हैं, इसके लिए किसी भी स्थिति में ऐसे उम्मीदवारों की तलाश जारी है, जो हर हाल में जीतकर आए। इस जीत के इरादों के साथ ही कई नेताओं ने अपनी पत्नियों के नाम भी आगे बढ़ाए हैं तो कई नेताओं की पत्नियों ने अपने पति के लिए अभी से मैदान संभाल लिया है। फिलहाल तो मुख्य राजनीतिक दलों में लोकसभा चुनाव के लिए टिकट पर मंथन का दौर जारी है, लेकिन सक्रियता हर तरफ दिखाई दे रही है।

प्रदेश में लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा, कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने अपनी पत्नियों के नामों को आगे बढ़ाया है। ये वे नेता हैं, जो खुद या तो मंत्री, विधायक हैं या पार्टी के उच्च पदों पर बैठे हैं। इस बार भाजपा के कई सांसदों का क्षेत्रों में विरोध सामने आ रहा है तो वहीं कांग्रेस भी ऐसे उम्मीदवारों की तलाश में है, जो जीत का दावा पुख्ता करते हों। बसपा, सपा सहित अन्य दल भी चुनाव जीतने वाले चेहरों को लेकर मंथन में जुटे हैं।

चर्चाओं में इनके नाम

लोकसभा चुनाव में इस बार ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शनीराजे सिंधिया का नाम तेजी से चल रहा है। चर्चाएं हैं कि कांग्रेस उन्हें गुना या ग्वालियर से चुनाव मैदान में उतार सकती है। गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद सांसद हैं, लेकिन इस बार उनको ग्वालियर से चुनाव लड़ाया जा सकता है, इसलिए गुना से उनकी पत्नी प्रियदर्शनीराजे सिंधिया का नाम चल रहा है। इसी तरह दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता राय सिंह का नाम भी चर्चाओं में था। इंदौर लोकसभा सीट से मंत्री जीतू पटवारी अपनी पत्नी रेणुका पटवारी का नाम आगे बढ़ा रहे हैं। रेणुका पटवारी कई मौकों पर सार्वजनिक कार्यक्रमों में नजर भी आ रही हैं। गृह मंत्री बाला बच्चन की पत्नी का नाम रतलाम सीट से चल रहा है। बताया जा रहा है कि उनकी पत्नी को लेकर कमलनाथ की भी रजामंदी है और वे दिल्ली तक उनका नाम भिजवा चुके हैं। इसी तरह मुख्यमंत्री कमलनाथ की पत्नी अलकानाथ छिंदवाड़ा सीट पर सक्रिय बताई जा रही हैं। हालांकि वे खुद तो चुनाव नहीं लड़ रही हैं, लेकिन बेटे नकुलनाथ के लिए उन्होंने अभी से सक्रियता बढ़ा दी है। वे कई कार्यक्रमों में शामिल हो रही हैं। विदिशा लोकसभा सीट से इस बार पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम तेजी से चल रहा है। वे पहले भी यहां से सांसद रहे हैं, लेकिन पिछले दो लोकसभा चुनाव में यहां से केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज चुनाव लड़ी हैं, लेकिन इस बार शिवराज सिंह चौहान मैदान में उतर सकते हैं। इसके लिए उनकी पत्नी साधना सिंह भी सक्रिय हैं। विधानसभा चुनाव में भी साधना सिंह ने बुधनी विधानसभा में पूरे समय मोर्चा संभाले रखा। यहां पर शिवराज सिंह चौहान एक बार भी नहीं गए। अब लोकसभा चुनाव के लिए भी साधना सिंह ने मोर्चा संभाल लिया है।

ये है सीटों की स्थिति

मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 19 सीटें सामान्य, अनुसूचित जाति की 4 और अनुसूचित जनजाति की 6 सीटें हैं। चर्चाएं हैं कि इस बार भाजपा अपने वर्तमान करीब 11 सांसदों के टिकट काट सकती है। इन सांसदों की स्थिति सर्वे में बेहतर नहीं आई है।

Naveen ( 1308 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top