Home > Lead Story > मुंबई की गति पर ही देश की गति निर्भर : प्रधानमंत्री

मुंबई की गति पर ही देश की गति निर्भर : प्रधानमंत्री

-भगवान गणेश की पूजा कर पीएम मोदी ने रखी मुंबई मेट्रो प्रोजेक्ट्स की नींव -मूलभूत सुविधाओं पर आगामी पांच साल में खर्च होंगे 100 लाख करोड़

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की अर्थ व्यवस्था पांच ट्रिलियन डॉलर की ओर अग्रसर है। हमें अपने शहरों को 21वीं सदी के अनुरूप बनाना है इसलिए आगामी पांच साल में उनकी सरकार मूलभूत सुविधाओं पर 100 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी। प्रधानमंत्री ने मुंबई में गणेश उत्सव के बाद प्रतिमा विसर्जन स्थल पर प्लास्टिक की थैली फेंककर प्रदूषण न करने की भी अपील की है। प्रधानमंत्री ने गणपति बाप्पा मोरया कहकर गणेश भक्तों को मुबारकबाद भी दी है।

प्रधानमंत्री शनिवार को मुंबई में मेट्रो कॉरिडोर का भूमिपूजन करने के बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे समेत कई नेता भी मंच पर उपस्थित थे।

मोदी ने कहा कि देश में इस समय 850 किलोमीटर लंबी मेट्रो परियोजना पर काम चल रहा है। मुंबई में मेट्रो परियोजना का काम तेजी से शुरू है। मुंबई में मेट्रो की लंबाई आगामी पांच वर्षों में बढ़कर 325 किलोमीटर हो जाएगी। मुंबई में परिवर्तन की शुरुआत हो गई है। आज मेट्रो कॉरिडोर का 20 हजार करोड़ रुपये का और भी काम शुरू किया गया है।

उन्होंने कहा कि मुंबई की गति पर ही देश की गति निर्भर है। मेट्रो परियोजना के यह सभी काम पूरा हो जाने पर मुंबई वासियों की गति बढ़ जाएगी। मुंबई में लोकल रेलवे में जितने यात्री सफर करते हैं, उससे भी ज्यादा यात्री आगामी काल में मेट्रो में सफर कर सकेंगे। मेट्रो के डिब्बे भी मेक इन इंडिया के मार्फत अपने देश में ही बन रहे हैं। मुंबई में एक ही टिकट पर सभी यात्रा किए जाने की योजना बनाई गई है। बहुत जल्द पूरे देश में एक टिकट की योजना को लागू किया जाएगा। वह मुंबई में हुए जलजमाव के पल-पल की खबर वह सोवियत रूस में भी अपडेट थे।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी मुंबई और आरंगाबाद के एक दिवसीय दौरे पर हैं। वह औरंगाबाद में महाराष्ट्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (यूएमईडी) द्वारा आयोजित राज्यस्तरीय महिला सक्षम मेला को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री का नागपुर जाने का भी कार्यक्रम था, जिसे निरस्त कर दिया गया है। वह नागपुर मेट्रो के विस्तारित प्रोजेक्ट- सुभाषनगर-हिंगणा रूट का शुभारंभ करने वाले थे।

इसरो की सराहना

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रतिकूल परिस्थितियों में लगन से काम किस तरह किया जाता है, यह इसरों के वैज्ञानिकों से सीखना चाहिए। प्रधानमंत्री ने दावा किया कि चंद्रमा पर पहुंचने का सपना किसी भी कीमत पर साकार होगा। चंद्रयान-2 मुहिम सफल होकर रहेगी। इसरो के वैज्ञानिक दिन-रात मेहनत करते हैं। इनसे हमें प्रेरणा लेनी चाहिए।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को छोटा भाई कहकर संबोधित किया। प्रधानमंत्री के संबोधन से पहले उद्धव ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर प्रधानमंत्री को बधाई दी। उद्धव ने उम्मीद जतायी कि अब बहुत जल्द समान नागरिक कानून और राममंदिर का निर्माण संभव है। मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जिस तरह इसरो के वैज्ञानिकों की हौसला आफजाई की, वह प्रेरक है।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top