Home > Lead Story > सतना में एक बार फिर मासूम का अपहरण कर की हत्या

सतना में एक बार फिर मासूम का अपहरण कर की हत्या

सतना में एक बार फिर मासूम का अपहरण कर की हत्या

चाचा ही निकला भतीजे का हत्यारा

भोपाल/सतना

सतना जिले के चित्रकूट में स्कूल से जुड़वां भाइयों के अपहरण और हत्या का मामला पूरी तरह ठंडा भी नहीं हुआ था कि नागौद के रहिकवारा से एक पांच साल के मासूम का अपहरण करने के बाद हत्या कर दी गई। हत्या की वारदात के बाद इलाके में सन्नाटा पसर गया है। पुलिस महानिरीक्षक,उप पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस अधीक्षक सहित कई थानों के प्रभारी मौके पर पहुंच गय हैें। इस बड़ी घटना के बाद से सतना जिले में शहर से लेकर गांव तक आक्रोश व्याप्त हो गया है। किसी अप्रिय घटना की आशंका में प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी है। ज्ञात हो कि मंगलवार शाम को बच्चे का अपहरण उसके घर से किया गया था, अपहरण की घटना के बाद मासूम बच्चे को जहां पुलिस चप्पे-चप्पे में तलाश कर रही थी। वहीं उसका शव बोरी में बंद घर के पीछे नाले में मिला। आरोपी अनुताभ पिता बोलई प्रजापति उम्र 19 साल निवासी रहिकवारा के परिवार एंव मृतक परिवार के लम्बे समय से तनावपूर्ण संबंध भी चल रहे थे, इस संबंध में थाना नागौद मे पहले से 136/19 धारा 364 का अपराध पंजीबद्ध हुआ था। जिले के नागौद थाना क्षेत्र के रहिकवारा गांव में रहने वाले झब्बू कुम्हार का बेटा शिव 5 (वर्ष) को मंगलवार अपराह्न करीब 3.30 बजे तक घर के पास खेल रहा था। इसके बाद वह अचानक से लापता हो गया। शाम करीब 6 बजे झब्बू के भाई के मोबाइल फोन पर एक व्यक्ति ने फोन करते हुए बताया कि उसने शिव को अगवा किया है। उसे वापस लेने के लिए दो लाख रुपए की व्यवस्था कर लो। यह सुनते ही सभी के होश उड़ गए।

पहले घोंटा गला फिर बोरी में भर फेंक दिया तालाब में

पुलिस ने जानकारी दी कि भतीजा शिवकांत प्रजापति घर के बाहर खेल रहा था, तभी चाचा अनुताभ प्रजापति बच्चे का अपहरण कर चुपके से अपने घर के अंदर ले गया और फिर कमरे में ले जाकर रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी। लाश को छिपाने की नीयत से प्लास्टिक की बोरी में भरकर लाश को टोकनी में रखकर गांव के बाहर तालाब में फेंक दिया। बताया जाता है कि पहाड़ी में फोन से आवाज बदलकर मृतक के चाचा इन्द्रजीत प्रजापति को फोन कर दो लाख रूपये की फिरौती की मांग की गई थी।

क्या है घटनाक्रम

मंगलवार की शाम को आरोपी ने मासूम के भाई को फोन कर 2 लाख रुपए की फिरौती मांगी। इसके बाद घटना की खबर पुलिस को दी गई। चित्रकूट की घटना के बाद से यह अपहरण पुलिस के लिए चुनौती बन गई थी। आनन-फानन मे आईजी चंचल शेखर, एसपी संतोष सिंह गौर सहित अन्य मौके पर पहुंचे और जांच शुरू की। तफ्तीश के दौरान घर के नजदीक नाले से बालक का शव मिला। डॉग स्क्वाड की मदद से शव की पड़ताल हुई।

इसी महीने ये भी हुए अपहरण

7 मार्च को 7 वर्षीय आशिकी साकेत का मैहर से अपहरण ।

7 मार्च को ही सतना के सिविल लाइन थाना क्षेत्र से 13 वर्षीय शिवांस मिश्रा का अपहरण ।

10 मार्च को कोलगवां थाना इलाके के बैंक कालोनी से 13 वर्षीय प्रदुम्मन सिंह का अपहरण।

12 मार्च को 12 वर्षीय से श्रद्धा राजवंश का सिटी कोतवाली इलाके से अपहरण ।

12 मार्च को ही नागौद थाना के रहिकवारा से शिवकान्त प्रजापति का अपहरण।

Naveen ( 1446 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top