Home > विदेश > चीनी कंपनी हुवावे से अमेरिकी सुरक्षा को खतरा : पोंपियो

चीनी कंपनी हुवावे से अमेरिकी सुरक्षा को खतरा : पोंपियो

चीनी कंपनी हुवावे से अमेरिकी सुरक्षा को खतरा : पोंपियो

वाशिंगटन। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा है कि हुवावे चीन की एक अधिकृत कंपनी है, जिसके अपने देश की ख़ुफ़िया एजेंसी से गहरे संबंध हैं। इससे अमेरिकी सुरक्षा को ख़तरा है। उन्होंने यूरोपीय समुदाय को सचेत किया कि शेंजेन स्थित इस कंपनी के साथ कोई भी समझौता करते समय पुनः विचार करें। अमेरिका के इस आरोप को चीनी कम्पनी ने निराधार बताया है।

'भविष्य के किसान' विषय पर आयोजित सम्मेलन में पोंपियो ने कहा कि इस चीनी कंपनी से दो तरह से ख़तरा है। एक, इस कंपनी से अमेरिकी टेक्नोलॉजी की चोरी का ख़तरा है, जिससे वह मोबाइल नेटवर्क, हार्डवेयर और 5-जी के माध्यम से अमेरिकी लोगों की गोपनीयता के लिए ख़तरा बन सकता है। इसके अलावा हुवावे अपने परंपरागत तौर-तरीक़ों से देश के लिए ख़तरा बन सकता है। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस कंपनी के तौर-तरीक़ों के मद्देनज़र यूरोपीय कंपनिया भी व्यवसाय करने से कतराने लगी हैं।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने कनाडा से हुवावे कंपनी की मुख्य वित्त अधिकारी और उद्यमी 46 वर्षीय मेंग वांग्ज़ो को प्रत्यर्पित किए जाने की मांग की है। इससे अमेरिका और चीन के साथ-साथ उसका कनाडा के साथ भी तनाव पैदा हो गया है। इसका असर अमेरिका और चीन के बीच व्यापार पर पड़ सकता है। कनाडा ने कहा है कि इसके लिए अदालत की अनुमति ज़रूरी है। अमेरिका की ओर से प्रत्यर्पण अनुरोध पर मेंग वांग्ज़ो को एक दिसंबर को वेंकूवर एयरपोर्ट पर गिरफ़्तार किया गया था। इस पर चीन ने कनाडा और अमेरिका, दोनों को धमकी दी थी कि वे उनकी महिला उद्यमी को तत्काल रिहा कर दे, अन्यथा गंभीर परिणाम भुगतने को तैयार रहे। मेंग वांग्ज़ो इन दिनों ज़मानत पर वैंकूवर (कनाडा) में हैं।

अमेरिका ने मोबाइल बनाने वाली चीन की दूसरी बड़ी कंपनी हुवावे के ख़िलाफ़ दो दर्जन अभियोग लगाए हैं। अमेरिका ने गत जनवरी में कनाडा से मेंग वांगजू को प्रत्यर्पित किए जाने की माँग की थी।

Tags:    

Swadesh Digital ( 7125 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top