Home > स्वास्थ्य > गन्ने का रस रखता है वजन को नियंत्रित

गन्ने का रस रखता है वजन को नियंत्रित

गन्ने का रस रखता है वजन को नियंत्रित

हेल्थ/स्वदेश वेब डेस्क। गन्ने का जूस पीने का सही समय। बढ़ता वजन पर्सनैलिटी के साथ सेहत पर भी बुरा असर डालता है। बढ़े हुए वजन के कारण आपको दूसरों के सामने शर्मिंदा भी होना पड़ता है। बढ़ते वजन को कंट्रोल करनेके लिए आप हैल्दी डाइट से लेकर जिम में घंटों पसीना बहाते हैं लेकिन क्या आप जानते है कि सिर्फ गन्ने का रस पीकर आप मोटापा घटा सकते हैं। गन्ने के रस का सेवन न सिर्फ मोटापा घटाता है बल्कि यह आपके शरीर को एनर्जी देने के साथ डिहाइड्रेशन और कई बीमारियों से भी बचाता है। आइए जानते है किस तरह गन्ने के रस का सेवन मोटापा घटाने में मददगार होता है

गन्ने के जूस में पाए जाने वाले तत्व

इसमें 111 कैलोरी, 27 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 0.27 ग्राम प्रोटीन होता है, जोकि वजन कम करने में मदद करता है. इसके अलावा गन्ने में प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, जस्ता और पोटेशियम और विटामिन ए, बी-कॉम्प्लेक्स और सी भी पाया जाता है. गन्ने में फैट नहीं होता है. यह एक 100% नेचुरल ड्रिंक है. इसमें लगभग 30 ग्राम नेचुरल शुगर होती है. एक गिलास गन्ने के रस में कुल 13 ग्राम डाइटरी फाइबर होती है. इसलिए इसका सेवन मोटापा घटाने में मदद करता है.

गन्ने का रस पीते समय बरतें ये सावधानियां

मोटापा कम करने के लिए इसमें नींबू निचोड़कर एक चुटकी काला नमक डाल लें। वर्कआउट करने के तुरंत बाद या लंबे समय के बाद गर्मी से आने पर गन्ने का रस पीना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है. ऐसा करने से गन्ने का रस शरीर से निकल चुके नमक को बनाने में मदद करता है। वजन कम करने के लिए आप इस जूस को सुबह नाश्ते या दोपहर के लंच के बाद पी सकते हैं।

गन्ने का रस पीते समय बरतें ये सावधानियां

1. अगर आप तेजी से मोटापा कम करना चाहते हैं तो हमेशा ताजा गन्ने का रस पीएं। फ्रिज में रखा हुआ गन्ने का रस तो भूलकर भी न पीएं. फ्रेश गन्ने का जूस पीने से ही आपको इसमें मौजूद न्यूट्रीशस मिलेंगे।

2. एक्सपर्ट बताते हैं कि एक दिन में दो गिलास से ज्यादा गन्ने का रस न पीएं. क्योंकि एक स्वस्थ आदमी को महज दो गिलास गन्ने के रस की ही जरूरत होती है। इससे ज्यादा गन्ने के रस का सेवन आपको नुकसान कर सकता है.

3. कभी भी सड़े हुए गन्ने से निकाला हुआ रस न पिएं. इससे आपको पेट की बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए जूस निकलते वक्त गन्ना सही है या नहीं, इसकी जांच जरूर करें।

Tags:    

Swadesh Digital ( 7125 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top