Home > राज्य > मध्यप्रदेश > गुना > साहब, चाहे यहीं चूल्हा जलाना और बिस्तर लगाना पड़े पर जब तक बिजली चालू नहीं होगी, नहीं हटेंगे

साहब, चाहे यहीं चूल्हा जलाना और बिस्तर लगाना पड़े पर जब तक बिजली चालू नहीं होगी, नहीं हटेंगे

साहब, चाहे यहीं चूल्हा जलाना और बिस्तर लगाना पड़े पर जब तक बिजली चालू नहीं होगी, नहीं हटेंगे

दो खंबा पर ग्रामीणों ने लगाया दो घंटे तक जाम कलेक्टर-एसपी का भी वाहन रोककर किया घेराव

-निज प्रतिनिधि-

गुना। साहब, चाहे यहीं चूल्हा जलाना और बिस्तर लगाना पड़े पर जब तक बिजली चालू नहीं होगी, नहीं हटेंगे। यह चेतावनी कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार और एसपी राहुल कुमार लोढ़ा को बिलौनिया चक के ग्रामीणों ने दी। दरअसल ग्रामीण तीन दिन से अंधेरे में रह रहे है। कारण यहां के दर्जनों खंबे तोड़कर बिजली का तार चोरी कर लिया गया है। इसके चलते गांव में अंधेरा पसर गया है। बिजली कंपनी ने इसको लेकर ग्रामीणों को आरोपित करते हुए आपराधिक प्रकरण दर्ज कराने की धमकी दी थी। पहले ही बिजली न होने से परेशान ग्रामीण इस धमकी से बिफर गए और मंगलवार को दो खंबा बायपास पर आकर हाईवे रोक दिया। करीब दो घंटे तक ग्रामीणों नेह हाईवे जाम किए रखा। इस बीच सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। जाम के दौरान ही निकल रहे कलेक्टर, एसपी का प्रदर्शनकारियों ने घेराव किया। ग्रामीणों का कहना था कि बिजली चालू होने के बाद ही वह रास्ता छोड़ेंगे। हालांकि कलेक्टर, एसपी की समझाईश के और बिजली कंपनी के बिजली चालू करने के आश्वासन के बाद ग्रामीण मान गए और जाम खुल गया। हालांकि इसके बाद आवागमन सुचारु होने में काफी समय लग गया।

तीन दिन पहले टूटे थे खंबे, तार हुआ था चोरी

गौरतलब है कि तीन दिन पहले बिलौनिया चक से अज्ञात लोगों ने बड़ी तादाद में बिजली लाइन का तार चोरी कर लिया था। इस दौरान बदमाशों ने दर्जनों खंबे भी तोड़ डाले थे। इसके चलते जहां बिजली कंपनी को काफी नुकसान हुआ था तो गांव में बिजली व्यवस्था भी ठप पड़ गई थी। बिजली कंपनी का इसको लेकर कहना था कि क्षेत्र में पहले भी इस तरह की घटनाएं सामने आती रही हैं। इसका आरोप भी उन्होने ग्रामीणों के ऊपर लगाया। दूसरी ओर शनिवार-रविवार रात से गुल बिजली जब रविवार दोपहर तक नहीं आई तो ग्रामीण एकत्रित होकर सब स्टेशन पर पहुँचे। जहां नियुक्त कर्मचारी ने उन्हे खंबे टूटने और बिजली तार चोरी होने की जानकारी देकर अब बिजली नहीं आने की बात कही।

शिवपुरी जा रहे कलेक्टर-एसपी के वाहन को भी रोका


जाम के दौरान ही कलेक्टर-एसपी भी मौके से निकले। वह चुनाव की बैठक में भाग लेेने शिवपुरी जा रहे थे, ग्रामीणों ने उन्हे भी घेर लिया। इस दौरान कुछ ग्रामीणों की अधिकारियों से बहस भी हुई। अधिकारियों ने ग्रामीणो को समझाया, साथ ही बिजली कंपनी की ओर से बिजली चालू कराने का आश्वासन भी दिलाया। एसपी ने भी मामले में उचित कार्रवाई की बात कही। इसके बाद कहीं जाकर ग्रामीण रास्ते से हटे। हालांकि बजली कंपनी का कहना है कि पूरा काम नए सिरे से करना होगा। नए खंबे लगाए जाएंगे, फिर बिजली लाइन डाली जाएगी। इसके बाद कहीं जाकर बिजली चालू हो पाएगी। इस मामले में हफ्ते भर तक का समय लग सकता है।

अधिकारियों ने लगाया चोरी का आरोप

बाद में दो दिन तक बिजली नहीं आने से परेशान ग्रामीणों ने कंपनी के अधिकारियों से इसको लेकर शिकायत की। जिस पर अधिकारियों ने उन पर ही खंबे तोड़कर तार चोरी किए जाने का आरोप लगाते हुए पुलिस में आपराधिक प्रकरण दर्ज कराने की बात कही। इससे पहले ही बिजली गुल रहने से परेशान ग्रामीण भड़क गए। इसके बाद मंगलवार सुबह ग्रामीणों ने दो खंबा बायपास पर आकर डेरा डाल दिया। ग्रामीणों ने यहां सड़क पर पत्थर जमा दिए और खुद भी लेट गए। जिससे मार्ग पर वाहनों का आवागमन रुक गया। जिससे मार्ग पर दोनों ओर वाहनों की कतार लगने लगी। इस दौरान कई वाहन चालकों से ग्रामीणों की बहस भी हुई, किन्तु ग्रामीण अपनी जिद पर अड़े रहे और मार्ग से नहीं हटे । इसके चलते थोड़ी ही देर में मार्ग पर दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। इस दौरान बस, ट्रक, ट्रेक्टर-ट्रॉली, जीप सहित दो पहिया वाहनों को भी ग्रामीणों ने निकलने नहीं दिया।

काफी देर तक नहीं पहुंची पुलिस

जाम की सूचना वाहन चालकों ने तुरंत पुलिस को दे दी। इसके बाद भी काफी देर तक पुलिस मौके पर नहीं पहुँची। सबसे पहले एक पुलिसकर्मी नानाखेड़ी चौकी से पहुँचा, जिसने ग्रामीणों को अपने स्तर पर समझाने की कोशिश की, किन्तु ग्रामीण नहीं माने। बाद में अन्य पुलिसकर्मियों ने भी उन्हे मनाने की कोशिश की, किन्तु ग्रामीण बिजली चालू करने की अपनी जिद पर अड़े रहे।

Naveen ( 1230 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top