Home > राज्य > मध्यप्रदेश > गुना > अतिक्रमण हटवाने सडक़ पर उतरे कलेक्टर, एसपी बैंच पर बैठकर अपनी निगरानी में तुड़वाए बेजा कब्जे

अतिक्रमण हटवाने सडक़ पर उतरे कलेक्टर, एसपी बैंच पर बैठकर अपनी निगरानी में तुड़वाए बेजा कब्जे

अतिक्रमण हटवाने सडक़ पर उतरे कलेक्टर, एसपी बैंच पर बैठकर अपनी निगरानी में तुड़वाए बेजा कब्जे

दो घंटे तक चली मुहीम के बाद हनुमान चौराहे पर दिखने लगी चौड़ी सड़क

-निज प्रतिनिधि-

गुना। शहर की सडक़ों पर बुरी तरह पैर पसार चुके अतिक्रमण को हटवाने के लिए मंगलवार को खुद कलेक्टर भास्कार लाक्षाकार एवं एसपी राहुल कुमार लोढ़ा सड़क़ पर उतरे। मुहीम की शुरुआत हनुमान चौराहे से की गई और इस दौरान कलेक्टर, एसपी ने बैंच पर बैठकर अपनी निगरानी में बेजा कब्जे तुड़वाए। अचानक चलाई गई इस मुहीम में जेसीबी से कच्चे-पक्के अतिक्रमण को हटाया गया। इस दौरान एक तरह की दुकानों के आगे के टीन शेड भी हटाए गए और सड़क पर रखे दुकानों के बोर्ड एवं सामान को जब्त किया गया। दो घंटे तक चली इस मुहीम के बाद हनुमान चौराह पर सडक़ काफी चौड़ी देखने को मिली।

अतिक्रमण के हवाले है पूरा शहर, चलना भी दूभर

अतिक्रमण की समस्या सिर्फ हनुमान चौराहे पर नहीं है, बल्कि पूरा शहर इस समस्या से ग्रस्त है। आलम यह है कि सड़कों पर चलना भी दूभर हो गया है। अस्थाई,स्थाई अतिक्रमण से सिर्फ मुख्य बाजार के हालात खराब नहीं है, बल्कि पूरे शहर में स्थिति बद्हाल है। मुख्य बाजार में जयस्तम्भ चौराहे से लेकर नीचला बाजार तक आधी सड़क तक बाजार सजा रहता है। फुटपाथ तो इसके चलते गायब हो ही चुके है, सड़क पर भी निकलने को जगह नहीं बचती है। शहर के बाजार से गलियां तो जैसे गायब ही हो गईं है। हनुमान गली, अनुराधा, सौलत गली सहित बाजार से पुरानी गल्ला मंडी को जोडऩे वाली गलियों में दुकानों का सामान सड़क पर रखने से गलियां गायब हो गई हैं। यहां से वाहनों को निकालना मुश्किल हो गया है। लक्ष्मीगंज पूरे शहर में सबसे खुले वातावरण में है। सड़क की चौड़ाई के अलावा गलियां भी चौड़ी हैं, लेकिन इस क्षेत्र में टीवी, फ्रिज आदि के दुकानदारों ने सड़कों पर अपना सामान जमा रखा है, तो वहीं वाहन चालकों द्वारा सड़क किनारे अपने वाहन खड़े कर दिए जाते हैं।

मामूली विवाद के बीच हटा अतिक्रमण

कार्रवाई के दौरान कुछ दुकानदारों ने विरोध भी दर्ज कराया, किन्त मौके पर पुलिस बल के साथ खुद कलेक्टर, एसपी के मौजूद रहने से विरोध असरकारक नहीं हो पाया। विरोध के बीच खुद कलेक्टर ने मोर्चा संभाला और दुकानदारों से मुखातिब होकर अतिक्रमण को गलत बताते हुए कार्रवाई को सही ठहराया। इस दौरान एक तरफ की पूरी दुकानों के आगे का अतिक्रमण हटाया गया। इसके साथ ही ऊपर लगे टीनशेड तोड़ेे गए तो सड़क पर रखा सामान भी जब्त किया गया। कलेक्टर ने बताया कि अतिक्रमण के कारण हनुमान चौराहे पर निकलना भी दुश्वार हो रहा था, इसलिए यह अतिक्रमण हटाना जरुरी था।

जेसीबी लेकर पहुँचा अमला


हनुमान चौराहे पर मंगलवार दोपहर अमला अतिक्रमण हटाने अचानक जेसीबी लेकर पहुँच गया। कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार ने इसको लेकर पहले ही निर्देशित कर दिया था। इसलिए अमले के साथ पुलिस बल भी मौजूद था। थोड़ी ही देर में अमले ने हनुमान चौराहे पर एक तरफ की दुकानों का अतिक्रमण हटाना शुरु कर दिया। इस दौरान जेसीबी के जरिए अस्थाई एवं स्थाई अतिक्रमण को तोड़ा जाने लगा। जैसे-जैसे मुहीम आगे बढ़ी, वैसे-वैसे दुकानदारों ने अपने अतिक्रमण को खुद हटाना शुरु कर दिया।

बैंच जमाकर बैठ गए कलेक्टर, एसपी

अमुमन अब तक की कार्रवाई में अधिकारी मुहीम शुरु करवाकर निकल लेते है, फिर लोगों के विरोध का सामना अमले को करना पड़ता था, किन्तु मंगलवार को कार्रवाई कलेक्टर, एसपी ने शुरु तो करवाई ही, वहीं पूरी कार्रवाई के दौरान भी वह मौजूद रहे। इस दौरान दोनों अधिकारी मौके पर बैंच जमाकर बैठ गए। इसके बाद बीच-बीच में निर्देश देते हुए अधिकारी अतिक्रमण हटवाते रहे। इसमें कलेक्टर की रुचि अधिक देखने को मिली।

निकलना भी हो गया था दुश्वार

शहर के अन्य स्थानों की तरह हनुमान चौराहे पर भी दुकानदारों ने भरपूर अतिक्रमण कर लिया था। जितनी दुकान अंदर थी, उसके कहीं ज्यादा बाहर जमाकर रखी हुई थी। इसके चलते मार्ग संकरा हो गया था और निकलना भी दुश्वार होने लगा था। दुकानों के आगे टीनशेड़, फिर सामान और फिर आने वाले ग्राहक के वाहन खड़े होते थे। इस अतिक्रमण के चलते हनुमान चौराहे की सिग्नल व्यवस्था भी प्रभावित होती थी।

Naveen ( 374 )

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Share it
Top