Home > देश > महामिलावट की सरकार होती तो ना तो आतंकवाद पर फैसला होता ना गरीबों का कल्याण

महामिलावट की सरकार होती तो ना तो आतंकवाद पर फैसला होता ना गरीबों का कल्याण

महामिलावट की सरकार होती तो ना तो आतंकवाद पर फैसला होता ना गरीबों का कल्याण

पटना। महागठबंधन का नाम लिए बिना उसे "महामिलावट" की संज्ञा देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में यदि माहामिलावट की सरकार होती तो ना तो आतंकवाद के खिलाफ कोई कड़े फैसले होते और ना ही गरीबों का कल्याण हुआ होता।

बारिश के बीच पटना के गांधी मैदान में रविवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की तरफ से आयोजित रैली को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगभग 39 मिनट तक संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुनने के लिए बारिश के बीच भी लोग गांधी मैदान में डटे रहे और टस से मस नहीं हुए। इस बीच उनका उत्साह भी अपने पूरे चरम पर रहा ।उनके उत्साह को देखते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वरुण देवता की भी कृपा बनी हुई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 5 साल में राजग ने भारत की मजबूत नींव तैयार की है जिस पर सशक्त, समृद्ध, और नए भारत का निर्माण करने का समय आ गया है । देश को समृद्धशाली बनाने और आगे बढ़ाने का संकल्प लेने का लोगों से आह्वान करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि महामिलावट के घटक अपने स्वार्थ के लिए जीते हैं और वे देश की चिंता तथा परवाह नहीं करते। वोट लेकर भूल जाने वाले ऐसे लोगों को देश पहचान गया है जो स्वार्थ और परिवारवाद के लिए राजनीति करते हैं। नरेंद्र मोदी ने कहा कि ऐसे लोगों के पास उन्हें गालियां देने के सिवा कोई और काम नहीं बचा है। लोगों से सभी चीजों को बारीकी से देखने और समझने की अपील करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि महामिलावट के ऐसे लोग मोदी को खत्म करने की बात करते हैं जबकि वह सबके साथ मिलकर आतंकवाद को खत्म करने की प्राथमिकता पर काम कर रहे हैं । "उनकी प्राथमिकता मोदी खत्म करने की है जबकि मेरी प्राथमिकता आतंकवाद खत्म करने की"। उन्होंने कहा कि महामिलावट के नेता मोदी को खत्म करना चाहते हैं जबकि वे देश से गरीबी ,भ्रष्टाचार, कुपोषण, गंदगी को खत्म कर नौजवानों के लिए नए अवसर पैदा कर देश को विकास की राह पर ले जाना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों के पसीने की कमाई पर हाथ साफ करने वाले महामिलावट के ये लोग अब चौकीदार से परेशान हैं और इसीलिए चौकीदार को गाली देने की उनके बीच प्रतिस्पर्धा हो रही है। चौकीदार को पूरी तरह चौकन्ना बताते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि चारा के नाम पर बिहार में क्या-क्या हुआ यहां के लोग बेहतर जानते हैं।

स्वच्छता मिशन ,उज्ज्वला योजना, सौभाग्य योजना ,आयुष्मान योजना ,किसान सम्मान योजना जैसी योजनाओं की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इन सभी योजनाओं के पैसे अब लाभान्वित के खाते में सीधे जा रहे हैं और सभी योजनाएं बिचौलियों तथा दलालों से मुक्त हो गई हैं। उन्होंने कहा कि देश के चौकीदार ने सीधे खाते में जमा होने वाली प्रभावी योजनाओं की शुरुआत की है जिससे महामिलावट के लोगों में बौखलाहट है ।

उन्होंने कहा कि वर्षों से चली आ रही लूट , खसोट, बेनामी प्रॉपर्टी, बिचौलियों की संस्कृति जो सामान्य हो चुकी थी वह उनकी सरकार में बंद हो चुकी है ।

विकास की योजनाओं की चर्चा करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि 5 सालों में एनडीए की सरकार में गरीबों के जीवन में अभूतपूर्व बदलाव आया है । 50 करोड़ गरीबों को इलाज के लिए 5 लाख रुपए दिए जा रहे हैं , 33 करोड़ लोगों का खाता शुरू किया गया है , 21 करोड़ लोग 2 लाख रुपए तक के जीवन बीमा की सुविधा उठा रहे हैं ,7 करोड़ महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिया गया है, 3 करोड़ मध्यमवर्गीय लोगों को इनकम टैक्स के दायरे से छूट दी गई ,डेढ़ करोड़ से अधिक गरीबों को पक्का घर दिया गया ,डेढ़ करोड़ से अधिक लोगों को अटल पेंशन से जोड़ा गया ,बिना किसी वर्ग के हक को छेड़े सामान्य गरीबों को 10% आरक्षण दिया गया, सौभाग्य योजना के तहत घर -घर तक बिजली पहुंचाई गई ।किसान सम्मान योजना के तहत बिहार के डेढ़ करोड़ किसानों समेत देश के 12 करोड़ किसानों को किसान सम्मान योजना के तहत आर्थिक सहायता मिलनी शुरू हो गई है और हर वर्ष इस योजना के तहत 75 हजार करोड़ रुपए सीधे किसानों के खाते में जमा होंगे जिसके बाद किसानों को बीज ,खाद ,चारा के लिए कर्ज नहीं लेना पड़ेगा। चारा के नाम पर चुटकी लेते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि चारा के साथ और चारा के नाम पर बिहार में क्या -क्या हुआ उसे सभी जानते हैं।

बच्चों को पढ़ाई ,युवाओं को कमाई ,बुजुर्गों को दवाई, किसानों को सिंचाई और जन -जन की सुनवाई सुनिश्चित करने की विकास की अवधारणा की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार में बिहार में विकास की इसी पंचधारा को सुनिश्चित किया है ।

बिहार के विकास की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मुक्तकंठ से प्रशंसा की और कहा कि नीतीश कुमार जैसे कर्मठ और गरीबों की चिंता करने वाले मुख्यमंत्री ने बिहार को अंधकार युग के दौर से निकाल कर नई दिशा दी है । यहां के नौजवानों की ऊर्जा और प्रतिभा तथा मेधा की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और नीतीश कुमार की टीम ने एक साथ मिलकर बिहार को अंधकार के दौर से निकाला है। राज्य के विकास की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि राजधानी पटना में मेट्रो का काम शुरू कर दिया गया है और यहां की ट्रैफिक व्यवस्था अब पूरी तरह से सीएनजी पर आधारित होगी। यहां जल्द ही लोगों को पाइप से सस्ती और अच्छी गैस मिलेगी। उन्होंने कहा कि विकास की योजनाओं से पटना को स्मार्ट सिटी बनाने की प्रक्रिया में और गति मिलेगी। अपराध और भ्रष्टाचार को मुक्त करने के संकल्प के साथ बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के नेतृत्व में विकास की गति पकड़ी है । आधारभूत संरचनाओं के साथ -साथ शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी प्रगति हो रही है। उन्होंने कहा कि एम्स और आईआईएम जैसे संस्थान यहां कार्यरत हैं। सभी पुराने पुल -पुलिया को बदलकर राष्ट्रीय राजमार्गों की स्थिति भी बेहतर बनाई गई है और आवागमन की बेहतर सुविधा के लिए रेलवे की पुरानी व्यवस्था में भी सुधार किया गया है। सड़क और रेल यात्रा के साथ साथ हवाई यात्रा को भी सुगम बनाने के लिए 12 सौ करोड़ रुपए की लागत से पटना हवाई अड्डा का विस्तार और आधुनिकीकरण किया जा रहा है । गंगा में जल मार्ग से आवागमन की भी सुविधा यहां के लोगों को जल्द ही मिलेगी। उद्योगों के विकास के लिए भी बिहार में बेहतर योजनाएं बनाई गई हैं जिससे यहां के युवाओं को और अधिक रोजगार मिल सकेगा।

उन्होंने कहा कि लोगों के सहयोग और सेवा से देश को विश्व में नई ऊंचाई तक पहुंचाने के लिए मेहनत कर रहे हैं। लोगों की समझदारी की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यहां के लोगों को महा मिलावट के नेताओं की बातें समझ में आ चुकी हैं और लोग उन्हें एक बार फिर सजा देकर उनकी गलतियों का एहसास कराएंगे।

Tags:    

Swadesh Digital ( 7208 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top