Home > Archived > ताज संरक्षित क्षेत्र में हरियाली पर संकट

ताज संरक्षित क्षेत्र में हरियाली पर संकट

शिल्पग्राम में ओरिएंटेशन सेंटर के लिए काटे जाने हैं पेड़


आगरा। ताजमहल के पास शिल्पग्राम में ताज ओरिएंटेशन का निर्माण कार्य प्रस्तावित हैं। यहां पर पार्किंग निर्माण के लिए करीब दो दर्जन से अधिक पेड़ों को काटे जाने की तैयारी है। इससे ताजमहल के आस-पास हरियाली को नुकसान होगा। साथ ही ताजमहल के आसपास के क्षेत्र में प्रदूषण बढऩे का भी खतरा रहेगा। लेकिन निमार्ण कार्य के लिए पेड़ों को काटा जाना जरूरी बताया जा रहा है। फिलहाल मामले की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी गई है।

ताजमहल से 800 मीटर दूर शिल्पग्राम में प्रस्तावित ताज ओरिएंटेशन सेंटर और पार्किंग के निर्माण में काटे जाने वाले पेड़ों के सम्बंध में दो दिन पहले सेंट्रल एंपावर कमेटी के चेयरमैन पीवी जयकृष्णन, एडीएन राव, अमरनाथ शेट्टी ने निरीक्षण किया था। चार सदस्यीय टीम ने इनर रिंग रोड से आने वाले ट्रैफिक के मद्देनजर पार्किंग के निर्माण को जरूरी माना है। प्राप्त जानकारी के अनुसार काटे जाने वाले पेड़ों की संख्या 15 के आसपास है। टीम अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपेगी। उसके बाद ही पेड़ काटने की अनुमति पर फैसला होगा।

पर्यटन विभाग ने मांगी है अनुमति
बताते चले कि 231.85 करोड़ रुपये की लागत से प्रस्तावित ताज ओरिएंटेशन सेंटर के निर्माण हेतु पर्यटन विभाग ने पेड़ों को काटने के लिए सुप्रीम कोर्ट से अनुमति मांगी है। पूर्व की अखिलेश सरकार ने ताज ओरिएंटेशन सेंटर को मंजूरी दी थी और 30 करोड़ रुपये रिलीज किए।

लगाने होंगे 10 गुना पेड़
समिति सदस्यों ने कहा है कि अगर सुप्रीम कोर्ट ने पेड़ काटने की अनुमति दी तो पेड़ काटने के एवज में 10 गुना ज्यादा पेड़ लगाने होंगे। वन विभाग पेड़ों को लगाने के काम का निर्देशन करेगा।

Share it
Top