Home > Archived > कल से गूंजेंगे गणपति बप्पा के जयकारे

कल से गूंजेंगे गणपति बप्पा के जयकारे

कल से गूंजेंगे गणपति बप्पा के जयकारे


झांसी। समस्त जगत में प्रथम पूज्य भगवान गणेश की आराधना करने के लिए नगर की गणेश महोत्सव समितियों ने अपनी तैयारियां प्रारंभ कर दी हैं। इस वर्ष गणेश चतुर्थी 5 सितंबर को आयोजित की जा रही है। समितियों के व्यवस्थापकों ने कार्यक्रम को भव्यता के साथ मनाने की तैयारियां शुरु कर दी हैं, इसके लिए जहां आकर्षक साज सज्जा के साथ पंडाल सजाए जा रहे हैं, वहीं घरों में गणेश महोत्सव के लिए तैयारियां चल रही हैं।

नगर में गणेश महोत्सव के दौरान कई स्थानों पर भगवान गणेश की मूर्तियों की स्थापना की जाती है। इस दौरान कई स्थानों पर झांकियों का भी प्रदर्शन किया जाता है। गणेश महोत्सव के दौरान नगर के श्रद्धालु भी अर्ध रात्रि तक गणेश के दर्शनों के लिए जाते हैं, जिससे पूरे शहर में रात भर चहल पहल दिखाई देती है। प्रतिदिन गणेश जी की आरती में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं का हिसाब लगाया जाए तो यह संख्या हजारों को भी पार कर जाती है। सुरक्षा की दृष्टि से गणेश महोत्सव समितियों ने प्रबंध किए हैं तो हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी पुलिस प्रशासन की सक्रियता दिखाई देगी। शहर के गणेश मंदिरों पर भी इस महोत्सव को धूमधाम से मनाए जाने की तैयारियां चल रही हैं। महाराष्ट्रियन समाज की ओर से गणेश महोत्सव मनाने की भी तैयारियां की जा रही हैं। धार्मिक महोत्सवों की जानकारी रखने वाले एक पंडित जी से इस बारे में बात की तो उन्होंने बताया कि इस वर्ष गणेश चतुर्थी रवियोग चित्रा नक्षत्र में मनेगी।

भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी के दिन भगवान श्री गणेश के जन्म दिन गणेश चतुर्थी के रूप में जाना जाता है। गणेश चतुर्थी के दिन, भगवान गणेश को बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य के देवता के रूप में पूजा जाता है। गणेश चतुर्थी के दिन, गणेश स्थापना और गणेश पूजा, मध्याह्न के दौरान की जानी चाहिये। ज्योतिष के अनुसार मध्याह्न के समय को गणेश पूजा के लिए सबसे उपयुक्त समय माना जाता है।

गणेश मूर्ति से सजे बाजार
गणेश महोत्सव के लिए बाजार में गणेश भगवान की प्रतिमाएं खरीदने के लिए श्रद्धालु अपनी श्रद्धानुसार मूर्ति खरीद रहे हैं। एक खरीददार ने बताया कि इस बार मूर्ति हालांकि और वर्ष की अपेक्षा महंगी हैं, लेकिन भगवान की पूजा करने के लिए हम महंगाई का चिन्तन नहीं करते। अपनी क्षमताओं के हिसाब से अपने घर के लिए मूर्ति लाते हैं। इसके अलावा कई लोग बड़ी मूर्तियां भी खरीद कर ले जा रहे हैं।

Share it
Top