Home > Archived > अधीक्षक का तबादला आदेश कुछ देर में ही रद्द

अधीक्षक का तबादला आदेश कुछ देर में ही रद्द

अधीक्षक का तबादला आदेश कुछ देर में ही रद्द

ग्वालियर। स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय और उससे संबंधित अंचल का सबसे बड़ा अस्पताल जयारोग्य चिकित्सालय समूह इस बार एक तबादले को लेकर चर्चा में हैं।

तबादले का यह मामला है अस्पताल के संयुक्त संचालक व अधीक्षक डॉ. जेएस सिकरवार का। शनिवार को एक तबादला आदेश अधिष्ठाता कार्यालय के फैक्स पर आया। यह आदेश था डॉ. सिकरवार का। इसमें उनके स्थान पर अस्पताल के कैंसर रोग विभागाध्यक्ष डॉ. अक्षय निगम के अधीक्षक बनाने जाने का आदेश भी संलग्न था। यह बात आग की तरह अस्पताल में फैली और चर्चा का विषय बन गई। इसी बीच इस आदेश को कुछ ही समय बीता था कि पुन: एक आदेश आया कि जिसमें डॉ. सिकरवार के ही अध्यक्ष बने रहने की बात कही गई थी।

उधर अस्पताल प्रबंधन से जब इस विषय पर चर्चा की गई तो उसने यह तो स्वीकार किया कि डॉ. सिकरवार का तबादला आदेश आया था और उनकी जगह अक्षय निगम को अधीक्षक बनाने के आदेश थे, बाद में कुछ ही देर बाद डॉ. सिकरवार के ही अधीक्षक संबंधी आदेश आ गए। लेकिन ऐसा क्यों हुआ? तथा इस घटनाक्रम के पीछे की कहानी क्या हैं? इस बारे में अस्पताल से जुड़ा कोई व्यक्ति मुंह खोलने को तैयार नहीं।

उधर इस घटनाक्रम को लेकर अस्पताल में कई तरह की चर्चा का बाजार सरगर्म है। कुछ लोग तबादला होने और फिर उसके पुन: वापस होने के पीछे की कहानी को अस्पताल में चल रही चिकित्सकों की आपसी राजनीति से जोड़कर भी देख रहे हैं। हालांकि इस पर कोई चिकित्सक खुलकर कुछ भी बोलने से इंकार कर रहा है।

Share it
Top