Home > Archived > क्विज पूछकर सटटा लगवा रहे सटोरिए दबोचे

क्विज पूछकर सटटा लगवा रहे सटोरिए दबोचे

क्विज पूछकर सटटा लगवा रहे सटोरिए दबोचे

ग्वालियर। अब शहर में आगरा से आए दो शातिरों ने सट्टा लगाने का अनोखा हाईटेक तरीका अपनाया, लेकिन फिर भी पुलिस ने उन्हे धर दबोचा । सटोरिए लोगों से क्विज की तरह प्रश्न पूछते थे और मिले जवाबों के नंबरों पर ऑनलाइन सट्टा लगवाते थे। पुलिस ने शाम को इन्हें हिरासत में ले लिया।

जवाब मिलते ही बना लेते थे सट्टे के नंबर

बीते रोज पुलिस को पता चला कि लक्ष्य इंडिया क्विज के नाम पर ऑनलाइन सट्टा लगाया जा रहा है। पुलिस ने कई ऐसे लोगों को पकड़ा जो इनके यहां क्विज खेल चुके थे। उनसे पूछताछ में पूरा खुलासा हो गया कि सवालों के जवाब के नाम पर सट्टे का कारोबार चल रहा है। पुलिस ने आगरा के रहने वाले बॉबी सक्सेना और नितिन कुमार को ऑनलाइन सट्टा खिलाते हुए पकड़ लिया। आरोपियों के कब्जे से 34 हजार रुपए और एक लैपटॉप बरामद किया गया।

इस तरह लगवाते थे ऑनलाइन सट्टा

सट्टा खेलने वाले को तीन भाव बताए जाते थे जिसमें 12 रुपए लगाने पर 100, 55 लगाने पर 500 और 110 लगाने पर 1000 रुपए मिलने का दावा किया जाता था। खेलने वाले को एक कहानी सुनाकर उसके बारे में सवाल पूछे जाते थे। हर सवाल का दिए जाने वाले जवाब को सट्टे का नंबर माना जाता था।

क्विजिंग शॉप से शुरू किया सट्टे का कारोबार

आरोपियों ने किराए से एक ऑफिस लिया और वहां लक्ष्य इंडिया क्विजिंग शॉप खोली। ऑफिस में महज एक लैपटॉप रखकर ऑनलाइन सट्टा शुरु किया गया। धीरे धीरे आसपास के लोगों को इसे क्विज बताया गया, लिहाजा बूढे से लेकर बच्चे तक यहां आने लगे। पकड़े जाने पर आरोपियों ने पुलिस को बताया कि क्विंजिग के नाम पर सट्टा अवैध नहीं है।

खर्चा 5 हजार,कमाई 1.5 लाख

क्विजिंग के नाम पर सट्टा लगवाने वाले बॉबी ने पुलिस को बताया कि अब 5000 रुपए प्रतिदिन तक की कमाई होने लगी थी। शॉप का खर्चा एक माह में महज 5-7 हजार ही हो रहा था। ऑनलाइन सट्टे में पुलिस ने खेलने वाले लोगों को आरोपी नहीं बनाया है। ऐसे करीब 20 लोगों को पुलिस पूछताछ के बाद गवाह बना लिया।

Share it
Top