Home > Archived > कव्वाली की गंूज के साथ लगा शाहजहां को संदल

कव्वाली की गंूज के साथ लगा शाहजहां को संदल

कव्वाली की गंूज के साथ लगा शाहजहां को संदल

कव्वाली की गंूज के साथ लगा शाहजहां को संदल

आगरा। मुगल बाहशाह शाहजहां के 361 वें उर्स के दूसरे दिन कव्वालियों की गंूज के साथ संदल का लेप लगाया गया। इस दौरान जहां अकीदतमंदों का हुजूम उमड़ा, वहीं असली कब्रों पर जियारत करने के लिए पर्यटकों में भी भारी उत्साह देखा गया। भीड़ के चलते सीआईएसएफ को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।
दोपहर दो बजे ताजमहल में रस्म और रिवायत के मुताबिक उलेमा-ए-किरामो व खुद्दामें रोजा कमेटी के अध्यक्ष हाजी ताहिउद्दीन ताहिर ने शाहजहां की असली कब्र पर संदल का लेप लगाकर रस्म अदा की। इस दौरान कव्वालियों और फातिहा का दौर चलता रहा। संदल की रस्म के बाद ताज राॅयल गेट पर शहनाई और तांशे के अलावा कव्वालियों का दौर चला, जिसे सुनने के लिए अकीदतमंदों के अलावा देशी और विदेशी पर्यटकों का हुजूम लग गया। भीड़ को नियंत्रित करने में सीआईएसएफ के पसीने छूट गए।
आज चढ़ेगी 870 मीटर की चादर
उर्स के तीसरे दिन यानी आज दोपहर 3 बजे शाहजहां की असली कब्र पर हिन्दुस्तानी सतरंगी 870 मीटर कपड़े की चादर चढ़ाएगी जाएगी। सबसे पहले चार दक्षिण गेट हनुमान मंदिर ले जाई जाएगी। उसके बाद मुख्य स्मारक स्थित शाहजहां की असली कब्र पर चढ़ाएगी जाएगी।

Share it
Top