Home > Archived > हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने पुतला फूंक जताया आक्रोश

हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने पुतला फूंक जताया आक्रोश

आगरा। विश्व हिन्दू परिषद के नेता अरुण माहौर की हत्या पर हुआ बवाल अभी शांत नहीं हुआ है। शुक्रवार को पुलिस लाइन हिन्दू संगठनों में आक्रोश फूट पड़ा। पुलिस लाइन भारद्वाज बगीची से कलक्ट्रेट चौराहे तक जुलूस निकालकर इस्लाम का पुतला फूंका। इस दौरान पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच खींचा-तानी भी हुई।
विश्व हिन्दू परिषद के नेता अरुण माहौर की उठावनी के बाद हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं में आक्रोश भड़क गया। पुलिस लाइन भारद्वाज बगीची से कलक्ट्रेट चौराहे तक जुलूस निकालकर पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारे लगाए गए। जुलूस में कार्यकर्ता इस्लाम का प्रतीक एक पुतला भी लेकर चल रहे थे। इस दौरान सीओ वीआईपी असीम चौधरी व पुलिस बल ने जुलूस को चौराहे की ओर बढऩे का प्रयास भी किया, लेकिन कार्यकर्ता पुलिस को धकियाते हुए चौराहे पर पहुंच गए और जोशीली नारेबाजी करने लगे।


इस दौरान विहिप प्रान्त उपाध्यक्ष सुनील पाराशर ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर पुलिस ने किसी भी प्रकार से हिन्दू समाज को डराने व धमकाने का कार्य किया तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जब तक पुलिस गौकशों के खिलाफ कठोर कार्यवाही नहीं करती, तब तक यह प्रदर्शन चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि अरुण माहौर के बलिदान को हम व्यर्थ नहीं जाने देंगे। इसलिए प्रशासन समझ ले अब हिन्दू समाज ईंट का जवाब पत्थर से देगा। इसके बाद जैसे ही पुतले को आग लगाने की बारी आयी, तो पुलिस ने फिर रोकने का प्रयास किया, लेकिन जोर जबरदस्ती दिखाते हुए कार्यकर्ताओं ने इस्लाम के प्रतीक बनाए पुतले को आग लगा दी। इसके बाद पुलिस ने तुरंत ही आग बुझा दी और हिन्दू कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए वापस लौट गए। वहीं पुतला फूंकने के दौरान सीओ वीआईपी से हुई नोंक झोक पर भाजपा नेता श्याम भदौरिया और अशोक राणा पुलिस ने मंटोला थाने में बंद कर दिया। जिससे हिन्दू संगठन के नेताओं में रोष बढ़ गया। सभी कार्यकर्ता और नेता एकत्रित होकर जिलाधिकारी के निवास पहुंच गए। जहां पर जिलाधिकारी ने तुरंत थाना मंटोला को दोनों नेताओं को छोड़ के आदेश कर दिए। शुक्रवार को हत्या के विरोध में शहर जगह-जगह पुतला दहन किये गए। साथ ही बाजार बंद कराया गया।


अरुण की उठावनी में दिखे सभी शोकाकुल
इससे पूर्व पुलिस लाइन रोड स्थित भारद्वाज की बगीची में मृतक अरुण माहौर की उठावनी की गई, जहां हजारों की संख्या में घर-परिवार, रिश्तेदार, मित्र व हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता जमा हुए। साथ ही नेता भी शामिल हुए। तमाम संगठनों की ओर से मृतक आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की और परिवार को दुख की घड़ी में सबल प्रदान करने की कामना की। भाजपा नेता पुरूषोत्तम खण्डेलवाल ने अरुण की हत्या की तीव्र निन्दा करते हुए उनकी हत्या को बलिदान बताया, जिसे सभी लोग उनके बलिदान को हमेशा याद करेंगे और इसी याद के सहारे हमारे दिलों में अमर रहेंगे। महिलाओं में पूर्व महापौर अंजुला सिंह माहौर और समाज की गणमान्य महिलाएं थीं। वहीं भाजपा नेता पुरूषोत्तम खण्डेलवाल, विहिप के प्रान्त उपाध्यक्ष सुनील पाराशर, प्रान्त मीडिया प्रभारी प्रमेंद्र जैन व अन्य सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Share it
Top