Home > Archived > स्वच्छता एक आंदोलन बन गया है, अब इसे जन आंदोलन बनाना है :तोमर

स्वच्छता एक आंदोलन बन गया है, अब इसे जन आंदोलन बनाना है :तोमर

स्वच्छता एक आंदोलन बन गया है, अब इसे जन आंदोलन बनाना है :तोमर



शिमला। केन्द्रीय पंचायतीराज, पेयजल-स्वच्छता, भू-संसाधन एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने राज्य सरकार के द्वारा आयोजित एक वृहद कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश को पूर्ण रुप से खुले में शौच से मुक्त राज्य घोषित करते हुए उपस्थित राज्य के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बधाई दी। ज्ञातव्य हो कि अगस्त माह में सिक्किम को देश का पहला खुले में शौच से मुक्त राज्य घोषित किया गया था।

श्री तोमर ने कहा कि स्वच्छता हमारे लिए नया विषय नहीं है, स्वच्छता हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग है तथा हमारे संस्कार में रचा-बसा है। आजादी के तत्काल बाद महात्मा गांधी जी का स्वच्छता के लिए पूरा आग्रह रहा, लेकिन तत्कालीन सरकारों ने बापू के इस आग्रह की ओर ध्यान नहीं दिया, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बापू के सपने को साकार करने के लिए स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की है। मुझे खुशी है कि केन्द्र सरकार, सभी राज्य सरकारें, पंचायती राज संस्थाएं, नगरीय निकाए, सामाजिक, शैक्षणिक, और आध्यात्मिक संस्थाएं इस दिशा में मिलकर सक्रिय हैं। स्वच्छता अब एक आंदोलन बन गया है, लेकिन हम लोगों को अब इसे जन आंदोलन बनाना है। आज देश में स्वच्छता का प्रतिशत 42 से 58 हो गया है।

उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन केवल सरकारी कार्यक्रम नहीं है, बल्कि यह एक जन आंदोलन है।स्वच्छ भारत निर्माण के लिए सभी संस्थाओं और सभी नागरिकों के सहयोग की आवश्यकता है। श्री तोमर ने कहा कि सत्याग्रही हमें गुलामी से मुक्ति दिलाता है, जब कि स्वच्छताग्राही गंदगी से मुक्ति दिलाता है।इसलिए आज देश को स्वच्छताग्रहियों की आवश्यकता है। श्री तोमर ने कहा कि लोगों के स्वभाव में स्वच्छता शामिल होना चाहिए तथा देश के हर नागरिक को भारत से गंदगी दूर करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस दिन हम यह मानने लगेंगे कि सार्वजनिक संपत्ति हमारी है, उस दिन हमारे स्वभाव में परिवर्तन आ जायेगा। आज देश में स्वच्छता को लेकर प्रतियोगिता का माहौल बन रहा है।

Share it
Top