Home > Archived > करवा चौथ आज, सौ साल बाद बना महासंयोग

करवा चौथ आज, सौ साल बाद बना महासंयोग

करवा चौथ आज, सौ साल बाद बना महासंयोग

करवा खरीदा और रचाई मेंहदी

ग्वालियर। सुहाग की लम्बी उम्र की कामना के लिए करवा चौथ व्रत का इंतजार कर रहीं युवतियां पिछले एक सप्ताह से तैयारियों में जुटी हैं। बुधवार 19 अक्टूबर को करवा चौथ का व्रत है। ज्योतिष शास्त्रियों के अनुसार इस त्यौहार में पूजन का समय बुधवार शाम 5.33 से 6.52 यानीकि 1 घण्टा 18 मिनट का रहेगा, जबकि चांद रात्रि 8.32 बजे अपनी पूरी आकृति में दिखेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार करवा चौथ पर चन्द्रमा अपनी उच्च राशि वृषभ में होता है और रात आठ बजे के बाद ही उदय होता है। अपनी उच्च राशि और उदयकालीन होने से चन्द्रमा का दर्शन व अघ्र्य देने से धन व सुख की पूर्ण आरोग्य की प्राप्ति होती है। उन्होंने बताया कि ग्वालियर शहर में रात्रि 8.32 बजे चांद का दीदार होगा।
पति के सुदीर्घ जीवन की कामना के लिए मनाए जाने वाले करवा चौथ का पर्व बुधवार को मनाया जाएगा। इसके लिए मंगलवार को बाजार में महिलाओं ने श्रृंगार के साथ ही पूजा सामग्री की खरीदारी भी की। इसके साथ ही महिलाओं ने प्रियतम के नाम की मेंहदी रचवाई। करवा चौथ पर्व को लेकर बाजारों में भी महिलाओं को लुभाने के लिए नए-नए डिजाइन के करवा उपलब्ध हैं। तरह-तरह की चूडिय़ां और आभूषण बाजार में महिलाओं को आकर्षित कर रहे हैं। सुभाष मार्केट के दुकानदार प्रीतम ने बताया कि इस बार करवा चौथ के लिए कई तरह की पूजा-आरती की थालियां आई हैं, जिन्हें खरीदने में महिलाएं खासी रुचि दिखा रही हैं। यहां पर 200 से लेकर 500 रुपए तक में आरती की थालियां उपलब्ध हैं।

करवा चौथ पर सौ साल बाद बना महासंयोग
पति की लम्बी उम्र और स्वस्थ जीवन की कामना के लिए महिलाओं द्वारा रखा जाने वाला करवा चौथ का व्रत इस बार अति फलदायी होगा क्योंकि 100 साल बाद करवा चौथ पर महासंयोग बना है। ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी ने बताया कि करवा चौथ का त्यौहार बुधवार को मनाया जा रहा है। बुधवार को शुभ कार्तिक मास का रोहिणी नक्षत्र है। इस दिन चन्द्रमा अपने रोहिणी नक्षत्र में तो बुध अपनी कन्या राशि में रहगा। इसी दिन गणेश चतुर्थी और कृष्ण जी की रोहिणी नक्षत्र भी है। बुधवार गणेश जी और कृष्ण जी दोनों का दिन है। ये अद्भुत संयोग करवा चौथ के व्रत को और भी शुभ फलदायी बना रहा है।

हाथों पर नजर आया करवा चौथ का चांद
करवा चौथ पर्व पर महिलाओं में मेंहदी लगवाने को लेकर काफी उत्साह है। मंगलवार को शहर के दीनदयाल मॉल एवं महाराज बाड़े पर मेंहदी लगाने वालों के यहां सुहागिनों की काफी भीड़ देखने को मिली। जहां कोई हाथों पर पिया का चेहरा उतरवा रहा था तो किसी के हाथों पर करवा चौथ का चांद ही खिल रहा था।
एक हजार रुपए तक वसूल रहे मेंहदी लगाने वाले
करवा चौथ पर्व के एक दिन पहले मंगलवार को मेंहदी लगाने वालों ने दाम बढ़ा दिए हैं। दो सौ से एक हजार रुपए तक मेंहदी लगाने के लिए जा रहे हैं। कोई केवल हथेली और कलाई पर मेंहदी लगवा रहा है तो कई पूरे बाजू के साथ साथ पैरों में भी मेंहदी लगवा रहा है।

Share it
Top