Home > राज्य > अन्य > पश्चिम बंगाल > ओमिक्रोन का असर : बंगाल में बंद हो सकते है स्कूल, मुख्यमंत्री ने दिए संकेत

ओमिक्रोन का असर : बंगाल में बंद हो सकते है स्कूल, मुख्यमंत्री ने दिए संकेत

ओमिक्रोन का असर : बंगाल में बंद हो सकते है स्कूल, मुख्यमंत्री ने दिए संकेत
X

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में ओमिक्रोन के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर स्कूलों को बंद करने के संकेत दिए हैं। गंगासागर में बुधवार को प्रशासनिक बैठक के दौरान बनर्जी ने लगातार बढ़ते संक्रमण को लेकर चिंता जाहिर की। इसके साथ ही उन्होंने राज्य के शिक्षा सचिव को निर्देश दिया है कि वे विशेष तौर पर हालात की समीक्षा करें। इससे माना जा रहा है कि एक बार फिर अगर संक्रमण की स्थिति चिंताजनक होती है तो राज्य में शैक्षणिक संस्थानों को बंद किया जा सकता है।

तीन दिवसीय दौरे पर ममता मंगलवार को ही गंगासागर गई हैं। दूसरे दिन उन्होंने प्रशासनिक बैठक की है। लगातार बढ़ते संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री ने शिक्षा सचिव से कहा कि पूरे देश में ओमिक्रोन मरीजों की संख्या बढ़ गई है। ऐसे समय में स्कूल कॉलेज को खुला रखा जा सकता है या नहीं, यह देखना होगा। अगर संक्रमण बढ़ रहा है तो फिर से स्कूल और कॉलेजों को बंद करना होगा।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि 50 फ़ीसदी उपस्थिति के साथ दफ्तरों में वर्क फ्रॉम होम को लागू रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आगामी तीन जनवरी से कोरोना नियमों की समीक्षा करनी होगी। आवश्कता पड़ने पर कोलकाता में कंटेनमेंट जोन बनाया जा सकता है। इसके अलावा विभिन्न वार्डों में कंटेनमेंट जोन बनाए जा सकते हैं। सतर्कता बेहद जरूरी है।उल्लेखनीय है कि 25 दिसंबर से एक जनवरी तक पश्चिम बंगाल सरकार ने कोरोना प्रतिबंधों में छूट दी है।

राज्य स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों ने बताया है कि अभी तक के 11 लोगों में ओमिक्रोन संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। हाल ही में चार और लोग पॉजिटिव पाए गए हैं जिनमें से दो दमदम, एक कोलकाता और एक हावड़ा के रहने वाले हैं। इनमें से केवल एक व्यक्ति का विदेश जाने का रिकॉर्ड है बाकी तीन लोग दूसरे देश में नहीं गए हैं फिर भी संक्रमित हुए हैं। राज्य स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में कोरोना संक्रमित 107 लोगों के नमूने को जिनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा है। इससे चिंता बढ़ने लगी है। हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Updated : 29 Dec 2021 11:22 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top