Home > राज्य > अन्य > पश्चिम बंगाल > ममता बनर्जी को ना मां की चिंता है, ना माटी की, ना मानुष की : जेपी नड्डा

ममता बनर्जी को ना मां की चिंता है, ना माटी की, ना मानुष की : जेपी नड्डा

बीरभूम में परिवर्तन यात्रा को दिखाई हरी झंडी

ममता बनर्जी को ना मां की चिंता है, ना माटी की, ना मानुष की : जेपी नड्डा
X

कोलकाता। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को बीरभूम में परिवर्तन यात्रा का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने अपने संबोधन में कहा है कि ममता बनर्जी को ना मां की चिंता है, ना माटी की, ना मानुष की। नड्डा ने कहा, "2021 के बजट में मोदी जी ने कोलकाता से सिलिगुड़ी तक के 675 किमी हाइवे के लिए 25, 000 करोड़ रुपये देना तय किया है। ममता जी नहीं चाहती कि बंगाल का विकास हो। लेकिन मैं ममता जी से कहना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व बंगाल बदलेगा। वो आएंगे, बार-बार आएंगे और विकास करेंगे।"

राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने कहा, "मंच बदल सकता है, इरादे नहीं बदल सकते। योजनाएं कितनी भी बनाओ रोकने की, हम रुक नहीं सकते। ममता जी को न मां की चिंता है, न माटी से प्यार है और न ही मानुष की चिंता है। उनको केवल तानाशाही से मतलब है। एक तरफ हम ममता जी को और दूसरी तरफ बंगाल को देख रहे हैं। आज उनके नेतृत्व में बंगाल की संस्कृति भी खतरे में पड़ गयी है। जो बंगाल संस्कृति, विकास, देश दृष्टि और दिशा देने के लिए जाना जाता था। ऐसे बंगाल के विकास को रोकने का काम, बंगाल में भ्रष्टाचार फैलाने का काम, ममता सरकार ने किया है।"

परिवर्तन यात्रा घर-घर जाएगी -

नड्डा ने कहा, "भाजपा की परिवर्तन यात्रा बंगाल के घर-घर जाएगी, वह इलाके का दौरा करेंगे, बंगाल की जनता को जागरूक करेगी और जनता को साथ लेकर बंगाल का असली परिवर्तन करेगी। हम लोग बंगाल में भाजपा की परिवर्तन यात्राओं की शुरुआत करेंगे। ये यात्राएं हम सभी को विकास की ओर ले जाने के लिए प्रेरित करते हुए जनता को जोड़ने का काम करेगी।"

राजनीति का अपराधिकरण हुआ -

उन्होंने कहा, "बंगाल में प्रशासन का राजनीतिकरण हो गया है। राजनीति का अपराधिकरण हो गया है। भ्रष्टाचार संस्थागत हो गई है। भाजपा के 130 कार्यकर्ता मारे गए हैं। तृणमूल ने त्रासदी से भी भ्रष्टाचार और कमाई का सहारा लिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने राहत राशि के रूप में पहले 1,000 करोड़ रुपये और फिर 1,750 करोड़ रुपये प्रदान किए। तृणमूल ने इसे लूट लिया और हाईकोर्ट ने सरकार को कैग से इसका ऑडिट कराने का आदेश दिया। वह आदेश को चुनौती देने के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट के पास गई हैं। बंगाल के 4.66 करोड़ लोगों को आयुष्मान भारत के तहत 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा नहीं मिला है। हम विश्वास दिलाते हैं कि राज्य में भाजपा की सरकार बनते ही आपको आयुष्मान भारत के सभी लाभ मिलेंगे।"



Updated : 2021-10-12T16:27:13+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top