Top
Home > राज्य > अन्य > पश्चिम बंगाल > बंगाल के मशहूर कवि शंख घोष का कोरोना से निधन

बंगाल के मशहूर कवि शंख घोष का कोरोना से निधन

बंगाल के मशहूर कवि शंख घोष का कोरोना से निधन
X

कोलकाता। बंगाल के मशहूर कवि और ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित शंख घोष आखिरकार कोरोना से जिन्दगी की जंग हार गए हैं। बुधवार को उन्होंने आखिरी सांस ली है। वे 89 साल के थे। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित शंख घोष की काेराेना रिपोर्ट 14 अप्रैल को पॉजिटिव आई थी। वे उम्र जनित कई अन्य कोमोरबिडिटी वाली बीमारियां जैसे शुगर, प्रेशर आदि से भी पीड़ित थे। चिकित्सकों ने उन्हें एकांतवास में रहने और लगातार इलाज कराने की सलाह दी थी। शुरुआती चिकित्सा में उनका बुखार कम हो गया था, लेकिन कमजोरी की वजह से उनकी हालत बिगड़ती चली गई और बुधवार को उनका निधन हो गया।

ऐसा रहा जीवन -

शंख घोष का 05 फरवरी 1932 को अविभाजित बंगाल के चांदपुर में जन्म हुआ था। कोलकाता के मशहूर प्रेसिडेंसी कॉलेज से उन्होंने 1951 में बंगाली साहित्य में ऑनर्स की डिग्री ली थी। तभी से उन्होंने कविता लिखने की शुरुआत कर दी थी। 1954 में कलकत्ता विश्वविद्यालय से मास्टर की डिग्री लेने वाले शंख घोष को पद्म भूषण सम्मान से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा उन्हें रवींद्र पुरस्कार और साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया था। 2016 में उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। शंख घोष की जिंदगी आम जनमानस के संघर्षों और मुफलिसी को कलमबद्ध करने में गुजरी है। गाहेबगाहे राजनीतिक हालात पर भी टिप्पणी को लेकर वह सुर्खियों में रहते थे। वह अपने दौर के वह मशहूर आलोचकों में से एक थे। उनके निधन को लेकर साहित्य जगत में शोक की लहर पसर गई है। सोशल मीडिया पर लोग उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दे रहे हैं। राज्य सरकार के सूत्रों ने बताया है कि उन्हें राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी।

Updated : 21 April 2021 11:13 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top