Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > वाराणसी > शिक्षक छात्र के रूप में भविष्य का निर्माण करता है : मंत्री दिनेश शर्मा

शिक्षक छात्र के रूप में भविष्य का निर्माण करता है : मंत्री दिनेश शर्मा

उपमुख्यमंत्री ने किया शिक्षकों का सम्मान

शिक्षक छात्र के रूप में भविष्य का निर्माण करता है : मंत्री दिनेश शर्मा
X

वाराणसी। शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर शनिवार को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने 2000 शिक्षकों को सम्मानित किया। शहर दक्षिणी के विधायक और प्रदेश के पर्यटन मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी के संयोजन में पिपलानी कटरा स्थित एक पैलेस में आयोजित भव्य समारोह में सम्मानित शिक्षक गदगद दिखे।

समारोह में उप मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षक छात्र के रूप में भविष्य का निर्माण करता है। उन्होंने कोरोना काल का जिक्र करते हुए कहा कि स्कूलों को बंद रहने के बावजूद शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने बेहतरीन तरीके से अपने उत्कृष्ट योगदान का परिचय देते हुए ऑनलाइन क्लास का संचालन किया, जो अद्भुत एवं अविस्मरणीय रहा। उप मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि वर्तमान सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में गुणात्मक सुधार किया है। शिक्षा का स्तर बढ़ा है। शिक्षक एवं शिक्षिकाओं की समस्याओं का प्राथमिकता पर समाधान सुनिश्चित कराया गया है।

उन्होंने शिक्षकों से कहा कि शिक्षा के सुधार के संबंध में यदि उनकी कोई सुझाव हो तो वे उन्हें सीधे पत्राचार कर सकते हैं। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि कायाकल्प एवं प्रेरणा योजना के तहत प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में उच्च स्तरीय सुधार किया गया है। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि जो 70 वर्ष में नहीं बदल सका उसे वर्तमान सरकार ने बदलते हुए एनसीईआरटी की तर्ज पर सरकारी विद्यालयों में बच्चों का पठन-पाठन सुनिश्चित कराया जा रहा है। आज सरकारी प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालयों का स्तर इतना ऊंचा उठ गया है कि यहां पर दाखिला के लिए लोगों में विशेष रूचि एवं भागमभाग मची हुई है। सरकारी विद्यालयों के कोरोना से मृत अध्यापकों के परिजनों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ मृतक आश्रित के रूप में नियुक्ति प्राथमिकता पर सुनिश्चित कराया गया। वित्त विहीन विद्यालयों के ऐसे मामले जेहन में है।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में शिक्षकों व गैर शिक्षक व्यक्तियों के ड्यू प्रमोशन तीन-चार माह में पूर्ण कर लें। शिक्षकों के चयन की प्रक्रिया के लिए गवर्नर प्रक्रिया को अपनाएं। समस्त कार्य पारदर्शिता, निष्पक्षता से हो। संस्कृत निदेशालय शीघ्र ही लखनऊ में खुलेगा। उन्होंने अध्यापकों से पूरे मनोयोग से अनुशासित हो अपने दायित्वों के निर्वहन पर विशेष जोर दिया।उन्होंने वाराणसी के विकास कार्य का जिक्र करते हुए कहा कि यहां के लोग सौभाग्यशाली हैं कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र के निवासी हैंं ।

Updated : 2021-10-12T16:03:41+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top