Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > विकास दुबे गैंग को जब तक पकड़ नहीं लेते तब तक शांत नहीं बैठेंगे : ADG

विकास दुबे गैंग को जब तक पकड़ नहीं लेते तब तक शांत नहीं बैठेंगे : ADG

विकास दुबे गैंग को जब तक पकड़ नहीं लेते तब तक शांत नहीं बैठेंगे : ADG
X

कानपुर। यूपी के कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में फरार चल रहे विकास दुबे गैंग के बदमाशाें की फोटो मंगलवार को पुलिस ने जारी कर दी। लखनऊ में आयोजित पत्रकार वार्ता में यूपी के ADG प्रशांत कुमार ने कहा कि जब तक हम विकास दुबे और साथियों को अरेस्‍ट नहीं कर लेते हैं, तब तक चुप नहीं बैठेंगे।

उन्होंने बताया कि हमें विकास दुबे बारे में भी ये सूचना मिली थी कि वो अपने घर में हथियार छिपा के रखता है। पूरे घर को सर्च किया गया तब इसके घर से 2 किलो विस्फोटक पदार्थ, 6 तमंचे,15 देशी बम, 25 कारतूस बरामद हुए हैं। उन्होंने बताया कि कानपुर मुठभेड़ में घायल हुए लोगों की स्थिति अब ठीक है,सब लोग खतरे से बाहर हैं।लेकिन जब तक हम विकास दुबे और उनके साथियों को गिरफ्तार नहीं कर लेते तब तक हम शांत नहीं बैठेंगे। हमारी 40 टीमें और STF टीमें इसमें लगातार कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में यह वायरल है कि कानपुर एनकाउंटर में अपनी जान गंवाने वाले सर्किल ऑफिसर देवेंद्र मिश्रा ने एक पत्र लिखा था। इसकी जांच के लिए DGP ने एक IG लेवल के अधिकारी को भेजा है। जांच में सच सामने आ जाएगा। इसके साथ ही एडीजी ने बताया कि एक ऑडियो क्लिप भी जारी हुआ है लेकिन इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। तत्कालीन एसएसपी, पुलिस स्टेशन इंचार्ज और सर्कल ऑफिसर के बीच बातचीत चल रही है। इसकी सत्यता के बारे में जांच करा रहे हैं। अगर अवश्यक होगा तो सर्किल ऑफिसर के कंप्यूटर का फॉरेंसिक टेस्ट भी कराएंगे।

पुलिस ने सोमवार इस मामले में दो महिलाओं समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक जांच में पाया गया कि घटना की रात पड़ोसी सुरेश वर्मा ने विकास दुबे व उसके साथियों द्वारा पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाने के दौरान हौसला अफजाई की। चिल्ला चिल्ला कर बदमाशों को कह रहा था कि आज कोई बचकर ना जाए। पुलिस वाले अपनी जान बचाने के लिए छिप रहे थे तो उनकी जानकारी बदमाशों को दे रहा था।

सूत्रों ने बताया कि विकास दुबे की रिश्तेदार क्षमा पर आरोप है कि जिस समय पुलिस टीम पर गोलियां चल रही थी उस समय कुछ पुलिस वाले अपनी जान बचाने के लिये उनके मकान में शरण लेना चाह रहे थे लेकिन क्षमा के द्वारा अपने मकान का दरवाजा नहीं खोला और अंदर जाकर बदमाशों को घर के बाहर पुलिस वालों की होने की जानकारी दी जिसकेे चलते छह पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए थे वहीं रेखा मुठभेड़ में पकड़े गए अपराधी दयाशंकर उर्फ कल्लू की पत्नी है और वह अपराधी विकास दुबेे के घर पर नौकरानी है। उसने अपराधी विकास दुबे को घर की ओर पुलिस वालों के आने की सूचना दी गई थी साथ ही ताबड़तोड़ चल रही गोलियोंं से शहीद हुए कुछ पुलिसकर्मी जान बचाने केे लिए दीवार की आड़ में छुप गए थे जिनकी जानकारी रेेखा के द्वारा बदमाशोंं को दी गई जिससे बदमाशों ने पुलिस वालों पर ताबड़तोड़ गोलियाँ चलाकर हत्या कर दी थी। थाना प्रभारी कृष्ण मोहन राय चौबेपुर ने बताया कि सभी आरोपियों पर मुकदमा पंजीकृत कर गिरफ्तार कर लिया गया है।

Updated : 7 July 2020 1:39 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top