Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > बांदा : प्रमुख सचिव ने विभिन्न योजनाओं की समीक्षा कर दिए निर्देश

बांदा : प्रमुख सचिव ने विभिन्न योजनाओं की समीक्षा कर दिए निर्देश

जिले में बांटे गए 5544 कंबल, खटान, अमलीकौर, एल0एन0टी0 की समीक्षा में 37 प्रतिशत कार्य मिला पूर्ण

बांदा : प्रमुख सचिव ने विभिन्न योजनाओं की समीक्षा कर दिए निर्देश
X

बांदा। कोरोना एवं संचारी रोग नियंत्रण एवं बचाव आदि की व्यवस्थाओं की व्यापक समीक्षा करते हुए उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी से जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बताया कि आज 40 केस नये हैं। सक्रिय केसों की संख्या 127 है।ं जिसमें से 02 जिला अस्पताल, 01 मेडिकल कॉलेज बांदा, 01 लखनऊ में भर्ती है शेष 123 केसेस होम आइसोलेशन में हैं। प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव ने उप मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि सार्वजनिक जगहों पर अभियान चलाकर आई0टी0पी0सी0आर0 तथा एन्टीजन टेस्ट कराना सुनिश्चित करें। मेडिसिन किट भी समय से उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में जो सक्रिय मरीज हैं उन्हें आइवर मैक्टिन, पैरासिटामॉल इत्यादि दवायें दी जाए और 469 ग्राम पंचायतों में सभी निगरानी समितियां सक्रिय की जायें। उन समितियों को थर्मामीटर, पल्स ऑक्सीमीटर सम्बन्धी उपकरण दिये जायें और यह सुनिश्चित किया जाए कि ये उपकरण पूर्णरूप से कार्य कर रहे हों।

उपरोक्त निर्देश जनपद के नोडल अधिकारी/प्रमुख सचिव नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति विभाग उ0प्र0 शासन अनुराग श्रीवास्तव ने सर्किट हाउस सभागार में सम्पन्न अधिकारियों की बैठक में दिये। उन्होंने कहा कि जिन्होंने कोविड वैक्सीनेशन की प्रथम डोज एवं दूसरी डोज नही लगवायी है उनका चिन्हीकरण कर लगवाना सुनिश्चित करें और 15 से 18 वर्ष के बच्चों को शत्-प्रतिशत टीकाकरण कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने वैक्सीनेशन की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी प्राप्त की और कहा कि जनपद में जो इन्ट्रीग्रेटेड कोविड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर पूर्ण रूप से 24 घण्टे संचालित होना चाहिए और चिकित्सा अधिकारियों सहित कर्मियों की भी ड्यूटी लगायी जानी चाहिए।

उन्होंने क्रास चेकिंग करते हुए जानकारी प्राप्त की कि वहां पर कौन सी टीम कार्यरत हैं जो ठीक पाया गया। उन्होंने उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 आर0एन0प्रसाद को नाराजगी व्यक्त की और कहा कि मीटिंग में आयें तो पूरी जानकारी के साथ आयें। बताया गया कि जनपद में 05 ऑक्सीजन प्लांट संचालित हैं। प्रमुख सचिव श्रीवास्तव ने जानकारी प्राप्त की कि मेडिकल कॉलेज ठीक से चल रहा है या नही। जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि डॉक्टरों की कमी है बाकी ठीक चल रहा है। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि बिना मॉस्क के कोई घूमने न पाये यह सतर्कता बरती जाए। टू नाट मशीने सक्रिय रखी जायें जिससे किसी प्रकार की समस्या न उत्पन्न हो सके।

जनपद में कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतः अनुपालन कराया जाए क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है और बहुत तेजी के साथ प्रसार भी हो रहा है तथा लोग संक्रमित हो रहे हैं इसलिए हम सभी को सतर्कता बरतनी होगी। प्रमुख सचिव श्री अनुराग श्रीवास्तव ने शीत लहर को दृष्टिगत रखते हुए निर्देश दिये कि जनपद में सार्वजनिक जगहों पर जगह-जगह अलाव जलवाये जायें और गरीब एवं असहाय व्यक्तियों को कम्बल वितरण का समय-समय से भी कार्य कराया जाए। कोई भूख से न मरने पाये यह विशेष ध्यान दिया जाए। लगातार गो आश्रय स्थलों पर गौवंशों का मेडिकल परीक्षण भी कराया जाए। जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने जानकारी देते हुए कहा कि जनपद में 5544 कम्बलों का वितरण करा दिया गया है। शेष मंगाये गये हैं। कोटेदारों को निर्देश दिये गये हैं कि जनपद में कोई भूख से न मरने पाये। लगातार हमारे द्वारा गौ आश्रय स्थलों का निरीक्षण भी किया जा रहा है। मण्डल कारागार से लगभग 250 पुराने कम्बलों एवं मण्डी समिति बांदा से बारदाना के बोरों से गौवंशो को ठण्ड से बचाया जा रहा है। गुड भी खिलाया जा रहा है तथा समय-समय पर स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जा रहा है।

जल-जीवन मिशन खटान, अमलीकौर, एल0एन0टी0 की समीक्षा करते हुए प्रमुख सचिव नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति ने उ0प्र0 शासन ने अम्लीकौर के इन्टेकबेल के कार्यों की समीक्षा की जिसमें बताया गया कि 37 प्रतिशत कार्य हो गया है। प्रमुख सचिव ने माह मार्च तक कार्य को पूर्ण करने शख्त निर्देश दिये और कहा कि मैन पॉवर लगाकर कार्य में प्रगति लायी जाए क्योंकि यह मा0 प्रधानमंत्री जी एवं मा0 मुख्यमंत्री जी की महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना से जनपद के हर घर को नल द्वारा जल दिये जाने का प्राविधान है इसलिए इसे जल्द से जल्द पूर्ण कराकर लोकार्पण कर संचालित कराया जाए जिससे बुन्देलखण्ड की पानी की समस्या का समाधान हो सके। यह कार्य जिलाधिकारी के मार्गदर्शन में कराया जाए और कार्य में प्रगति लायी जाए। इसी प्रकार अम्लीकौर के कार्यों को मार्च तक पूर्ण किया जाए। जितने भी सिविल स्ट्रक्चर हैं सभी में कार्य प्रारम्भ कर दिया जाए। अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे एम0पी0सिंह ने बताया कि 70 हजार कनेक्शन के सापेक्ष मात्र 5000 ही कनेक्शन दे पायें हैं। प्रगति बहुत खराब है। नाराजगी व्यक्त करते हुए प्रमुख सचिव ने निर्देशित किया कि यदि किसी फर्म के द्वारा कार्य में लापरवाही की जाए तो उसे टर्मिनेट कर दूसरी फर्म को नियमानुसार टेण्डर कर कार्य दिया जाए। पी0पी0टी0 के माध्यम से जल जीवन मिशन के संचालित कार्यों को दिखाया गया जिसमें प्रमुख सचिव ने निर्देश दिये कि वॉल पेन्टिंग/स्लोगन के माध्यम से इसका प्रचार-प्रसार कराया जाए जिससे ज्यादा से ज्यादा से जनसामान्य को जानकारी प्राप्त हो सके।

Updated : 15 Jan 2022 12:28 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top