Latest News
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > मोदी-योगी काल दलितों के विकास का स्वर्णिम युग : डॉ. निर्मल

मोदी-योगी काल दलितों के विकास का स्वर्णिम युग : डॉ. निर्मल

- शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, आवास, स्वच्छ भारत मिशन, उज्ज्वला, आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं से इन वर्गों का हुआ सशक्तीकरण

मोदी-योगी काल दलितों के विकास का स्वर्णिम युग : डॉ. निर्मल
X

बरेली। उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष डा. लालजी प्रसाद निर्मल ने कहा कि मोदी-योगी दलितों के सच्चे मित्र हैं। उन्होंने शुक्रवार को बरेली सर्किट हाऊस में प्रेसवार्ता करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की योजनाओं से दलितों का सामाजिक एवं आर्थिक सशक्तीकरण हुआ है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार दलितों के समग्र विकास का एजेंडा लेकर सरकार आई है।

​​डॉ. निर्मल ने कहा कि मोदी-योगी युग दलितों के विकास का स्वर्णिमकाल है। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के अवसर के साथ आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन, उज्ज्वला योजना, आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं से इन वर्गों का सशक्तीकरण हो रहा है। केन्द्र और प्रदेश सरकार की इन योजनाओं से सबसे अधिक लाभार्थी दलित, वंचित और गरीब समाज के लोग हैं। आजादी के बाद कोई भी सरकार दलितों के लिए समग्र विकास का एजेंडा नहीं लायी। यह पहली बार है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार दलितों के लिए सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक तीनों एजेंडा लेकर आयी है।

​​डॉ. निर्मल ने कहा कि केन्द्र सरकार की स्टैंड-अप इंडिया योजना के तहत अनुसूचित जाति के उद्यमियों को 10 लाख रुपये से लेकर एक करोड़ रुपये तक का वित्तपोषण किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के तहत 20 हजार रुपये से लेकर 15 लाख रुपये तक का वित्तपोषण कृषि एवं अकृषि क्षेत्र, उद्योग, सेवा, व्यवसाय की परियोजनाएं यथा-पशुपालन, डयेरी उद्योग, खाद एवं बीज की दुकान, मधुमक्खी पालन, टेंट हाउस, कॉस्मेटिक शॉप तथा यातायात की योजनाओं में स्वरोजगार के लिए बैंकों के सहयोग से वित्तीय सहायता दी जा रही है।

​उन्होंने कहा कि ​​उक्त के अतिरिक्त नगरीय क्षेत्र दुकान निर्माण योजना के तहत 78 हजार से 85 हजार, लाण्ड्री एवं ड्राइक्लीनिंग योजना के लिए 1 लाख तथा 2 लाख 16 हजार तक की वित्तीय सहायता ब्याज मुक्त उपलब्ध करायी जा रही है। विजनेस करेस्पांडेंट, टेलरिंग शाप योजना तथा पं. दीनदयाल उपाध्याय आटा-मशाला चक्की योजना के तहत अनुसूचित जाति के लोगों को स्वरोजगार से जोड़ा जा रहा है। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत दलित बाहुल्य 6188 ग्रामों को प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत जोड़ा जा रहा है जिसमें आधारभूत सुविधाएं प्रदान की जायेंगी।

​​मोदी-योगी सरकार न केवल दलितों का सशक्तीकरण कर रही है वरन बाबा साहेब डॉ. आंबेडकर को सम्मान देने का कार्य भी इस सरकार ने किया है। आंबेडकर के जन्म स्थान महू छावनी, शिक्षा भूमि 10 किंग्स हेनरी रोड लंदन, दीक्षा भूमि नागपुर, परिनिर्वाण स्थल 26 अलीपुर रोड दिल्ली तथा चैत्य भूमि जहां पर उनका अंतिम संस्कार हुआ है इन पांचों स्थनों को पंचतीर्थ घोषित कर भव्य स्मारक बनवाया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने सभी सरकार कार्यालयों में डॉ. आंबेडकर का चित्र लगाना अनिवार्य कर दिया है। लखनऊ में बाबा साहेब डॉ. आंबेडकर स्मारक एवं सांस्कृतिक केन्द्र का निर्माण किया जा रहा है जिसमें भव्य प्रेक्षागृह, संग्रहालय, पुस्तकालय, वाचनालय, विपस्सना केन्द्र, अतिथि गृह, डॉ. आंबेडकर के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर शोध करने के लिए शोध केन्द्र भी प्रारंभ किया जा रहा है।

​​डॉ. निर्मल ने कहा कि राजनैतिक रूप से भी इन वर्गों का आर्थिक सशक्तीकरण हुआ है। पार्टी संगठन से लेकर विधान परिषद, राज्यसभा और मंत्रिमण्डल में इन वर्गों को समुचित भागीदारी दी जा रही है। इस प्रकार से मोदी-योगी युग इन वर्गों के लिए विकास का स्वर्णिम युग माना जायेगा।

Updated : 13 May 2022 12:43 PM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top