Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > मथुरा > विजय कुमार गुप्ता बड़ा एक्टर और नम्बरी बदमाश-रामकिशोर

विजय कुमार गुप्ता बड़ा एक्टर और नम्बरी बदमाश-रामकिशोर

विजय कुमार गुप्ता बड़ा एक्टर और नम्बरी बदमाश-रामकिशोर


विजय कुमार गुप्ता

मथुरा। विजय कुमार गुप्ता बड़ा एक्टर ही नहीं नम्बरी बदमाश भी है। उक्त बात आरके ग्रुप के चेयरमैन डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल ने आज वरिष्ठ पत्रकार किशन चतुर्वेदी से कहीं।

उल्लेखनीय है कि गत दिवस दैनिक स्वदेश में जब रामकिशोर बने अप्रैल फूल शीर्षक से एक समाचार मेरे द्वारा प्रकाशित किया गया था जिसमें पाँच-छः वर्ष पूर्व उन्हें अप्रैल फूल बनाए जाने का रोचक किस्सा था।

आज जब उक्त समाचार फेसबुक और व्हाट्सएप के द्वारा चारों ओर वायरल हुआ तो किशन चतुर्वेदी व अन्य कई लोगों द्वारा रामकिशोर जी को फोन करके चटकारे लिए, तब रामकिशोर जी द्वारा उक्त बातें कहीं।

किशन चतुर्वेदी बताते हैं कि मैंने रामकिशोर जी को फोन करके पूछा कि क्या यह सच बात है, तो रामकिशोर जी बोले कि हां बिल्कुल सच है। इस पर किशन चतुर्वेदी ने कहा कि बड़ा बदमाश है विजय गुप्ता, तो वह बोले कि बदमाश ही नहीं नम्बरी बदमाश है और बहुत बड़ा एक्टर है।

उन्होंने कहा कि ऐसी घबराहट चेहरे पर लेकर आया जैसे सचमुच में इस पर मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा है। रामकिशोर जी कहते हैं कि उसने ऐसी ड्रामेबाजी की कि मैं यह भांप ही नहीं पाया कि यह मुझे छलने आया है। उन्होंने कहा कि जब तक मैं लिफाफे की सारी स्टैपलर पिन खोलूं तब तक तो वह बदमाश अपने घर का आधे से ज्यादा रास्ता पार कर गया।

उल्लेखनीय है कि डाॅ. रामकिशोर वह चीज है जो अच्छे-अच्छों को लाइन पर लगा देते हैं तथा चेहरा देखकर ही मिनटों नहीं सैकिन्डों में सारा मामला भांप लेते हैं। उस दिन एक अप्रैल थी लेकिन पता नहीं ईश्वर ने ऐसी क्या लीला रची जो उनका ध्यान ही नहीं गया इस ओर। खैर मेरा नसीब अच्छा था जो उन्हें चारों खाने चित कर दिया वर्ना मेरी क्या दुर्गति होती भगवान ही जाने।

उल्लेखनीय है कि रामकिशोर जी मथुरा की नाक कहे जाते हैं। इस बात को प्रमुख शिक्षाविद और वरिष्ठ पत्रकार डाॅ. अशोक बंसल इन शब्दों में कहते हैं। किसी भी शहर की पहचान उसमें बहने वाली नदी और शिक्षण संस्थानों से होती है। मथुरा में यमुना मैया है और राम किशोर जी द्वारा बनाऐ बसाऐ उच्च शिक्षा के अनेक मंदिर हैं। वे कहते हैं भले ही आज मदन मोहन मालवीय जिन्दा नहीं हैं लेकिन ऐसे ही महान कार्यों के कारण वह आज भी जिंदा है।

अशोक बंसल यहीं नहीं रुकते, वह कहते हैं कि भले ही हमेशा रामकिशोर रहे ना रहे लेकिन रामकिशोर मथुरा के इतिहास में अमर रहेगा। अशोक बंसल रामकिशोर जी के जीवन पर सौ पेज की एक पुस्तक भी लिखने का मन बना रहे हैं।

Updated : 2 April 2020 4:15 AM GMT

स्वदेश मथुरा

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top